आपसी दौड़ में ही फिसड्डी हुई यूपी पुलिस

जांच

कामकाबोझयूपीपुलिसकादमनिकालरहाहै.ड्यूटीइतनीलंबीकिपुलिसजवानोंकेपासनींदकेलिएभीसमयनहींहै.ऐसेमेंफिटनेसकीबातकरनाइनकामजाकउड़ानाहै.

यहहकीकतदारोगापदपरप्रोन्नतिकेलिएआयोजितशारीरिकदक्षतापरीक्षामेंसामनेआई.सिपाहियोंको75मिनटमें10किमीकीदौड़लगानीथी.प्रमोशनकीआसमेंमेरठ,सीतापुर,आजमगढ़औरकानपुरमेंआयोजितपरीक्षामेंदौड़केदौरान97सिपाहीबेहोशहोगए.मेरठजिलाअस्पतालमेंइलाजकेदौरानसिपाहीअग्रजदुबेकीमौतहोगई.पोस्टमार्टममेंपताचलाकिउनकीमौतब्रेनहेमरेजसेहुई.

छत्रपतिशाहूजीमहाराजचिकित्साविश्वविद्यालय,लखनऊमेंमेडिसिनविभागमेंप्रोफेसरडॉ.ए.के.त्रिपाठीकहतेहैं,''नियमितव्यायामनकरनेवालेव्यक्तिकोयदि10किमीदौडऩेकोकहदियाजाएतोदिलऔरदिमागपरजोरपड़ताहै.इससेकईबारदिलकादौरायादिमागकीनसफटजातीहै.

यहीअग्रजकेसाथहुआहोगा.''मेरठमेंअग्रजकेसाथदक्षतापरीक्षामेंशामिलरहेफर्रुखाबादनिवासीमुकुलसिन्हाबतातेहैं,''दौड़सेपहलेकिसीअभ्यर्थीकीफिटनेसनहींजांचीगई.यहभीनहींपूछागयाकिउसेकोईबीमारीतोनहींहै.''

परीक्षास्थलपरउत्तरप्रदेशभर्तीएवंप्रोन्नतिबोर्डनेएंबुलेंसयाचिकित्सककाकोईइंतजामनहींकररखाथा.मेरठमेंसिपाहियोंकोबीमारपडऩेकेबहुतदेरबादअस्पतालमेंभर्तीकरायाजासका.आजमगढ़मेंतोबेहोशसिपाहियोंकोजीपमेंलादकरअस्पतालपहुंचायागया.

दरअसलबोर्डराज्यमेंदारोगाके5,379पदोंपरप्रोन्नतिकेलिएपरीक्षालेरहाहै.लिखितपरीक्षामें52,266अभ्यर्थीशामिलहुएजिनमें3,892पासहुए.उनकेलिए20जुलाईसेशारीरिकदक्षतापरीक्षाचलरहीहै.जैसे-जैसेपरीक्षाआगेबढ़ीहै,दौड़मेंशामिलहोकरबीमारपडऩेवालेसिपाहियोंकीसंख्याबढ़तीगईहै.यह500काआंकड़ापारकरचुकीहै.

सामान्यतःदारोगापदपरप्रोन्नतिकेलिएवहीसिपाहीयोग्यहैजिसकीउम्र40सेअधिकनहो,परइसबारकीपरीक्षामें47वर्षकीउम्रतककेसिपाहियोंकोमौकादियागयाहैक्योंकियहप्रोन्नतिपरीक्षानिर्धारितसमयसेसातसालबादहोरहीहै.

इसकेलिए10किमीकीदौड़कानियमकितनाव्यावहारिकहै,उसकाअंदाजाइससेलगायाजासकताहैकिजोसिपाही18से20वर्षकीउम्रकेबीचमहजएकमीलकीदौड़लगाकरपुलिसमेंभर्तीहुआहो,उसेअबइसउम्रमेंप्रोन्नतिपानेकेलिए10किमीदौड़लगानीपड़रहीहै.वैसे,20-25सालकीड्यूटीकेदौरानउनकीफिटनेसकोबरकराररखनेकेलिएविभागनेकोईकोशिशनहींकी.

शायदइसीलिएप्रोन्नतिकेलिएदौड़मेंशरीरनेसाथनहींदियाऔरसिपाहियोंकीजानपरबनआई.आजमगढ़में10किमीकीदौड़लगातेवक्तवाराणसीकेरामनगरथानेपरतैनातअनीसुज्जमाकीमौतहोगई.डॉक्टरोंनेउनकीमौतकाकारणदिलकादौरापडऩाबतायाहै.इलाहाबादस्थितचौथीपीएसीबटालियनसीकंपनीमेंतैनातअवनींद्रकुमारसिंहकानपुरमेंप्रोन्नतिकेलिएदौड़लगातेवक्तगशखाकरगिरगएथे.उन्हेंहैलटअस्पतालमेंभर्तीकरायागयाजहांउनकीमौतहोगई.अवनींद्रकीमृत्युकाकारणभीदिलकादौराथा.भर्तीबोर्डकेएकअधिकारीबतातेहैंकिदौड़मेंशामिलहोनेआएज्यादातरपुलिसकर्मीशक्तिवर्धकगोलियांलेनेलगेथे.

चिकित्सककीसलाहकेबगैरऐसीदवाओंकेसेवनसेउनकेस्वास्थ्यपरबुराअसरपड़ा.दौड़केपहलेइनसिपाहियोंकीमेडिकलजांचनहींकराईगई,ऐसेमेंजबउन्होंनेकठिनदौड़मेंहिस्सालियातोउनकेशरीरनेजवाबदेदिया.वैसे,विशेषपुलिसमहानिदेशक(कानून-व्यवस्था)बृजलालदौड़केनियमोंमेंशिथिलताबरतनेकेपक्षमेंनहींहैं.वेकहतेहैं,''अभ्यर्थियोंकोबार-बारबतायाजारहाहैकियदिउनकास्वास्थ्यठीकनहींहैऔरवे10किमीदौड़पानेमेंअसमर्थहैंतोपरीक्षामेंभागनलें.''

ऐसानहींहैकिपुलिसविभागमेंसिपाहियोंकीफिटनेसकेनियम-कायदेनहींहैं.हरस्तरपरपरेडकीअनिवार्यव्यवस्थाहै,परकर्मियोंकीकमीऔरकामकेबढ़तेदबावकेचलतेयेनियमड्यूटीकेहिस्सेसेबाहरहोगएहैं.यहीनहीं,हरथानेपररोजसुबहसिपाहियोंकीपरेडऔरहरशुक्रवारकोएसपीकीअगुआईमेंसाप्ताहिकपरेडकीपरंपराकोभीताकपररखदियागयाहै.यहीवजहहैकिसिपाहीकीड्यूटीमेंफिटनेसकीअहमियतगायबहोगई.

नतीजतनसिपाहियोंकीसेहतलगातारकमजोरहोरहीहै.पुलिसनियमोंमेंयहभीप्रावधानहैकिहरसिपाहीसाल-दोसालकेबीचकमसेकमदोमाहकेलिएसिविलइमरजेंसीरिजर्वड्यूटीकरे.परपीएसीकेगठनकेबादरिजर्वपुलिसनहींरहीतोट्रेनिंगभीबंदहोगई.हरतीसरेसालपुलिसकर्मियोंकीफिटनेसमापनेकाभीनियमहैलेकिनऐसानहींहोपारहा.

मोबाइलपरताजाखबरें,फोटो,वीडियोदेखनेकेलिएजाएंपर.