बारिश ने किसानों के सपनों पर फेरा पानी, मंडी में आई धान भीगी

जांच

संवादसहयोगी,लाडवा:लाडवाक्षेत्रमेंबारिशनेकिसानोंकेसपनोंपरपानीफेरदिया।बुधवारकोलाडवाक्षेत्रमेंसुबहनौबजेसेशुरूहुईबारिशदोपहरतकभीबंदनहींहुई।बारिशकीवजहसेजहांधानकटाईकाकार्यरुकगया।वहींअनाजमंडीमेंबिकनेकेलिएआईकिसानोंकीधानभीभीगगई।धानकोभीगनेसेबचानेकेलिएढेरियोंकोतिरपालसेतोढकागया,लेकिनलगातारकईघंटेचलीबूंदाबांदीसेकिसानोंकीधानफिरभीगीलीहोनेसेबचनहींपाई।क्षेत्रमेंपिछलेकरीबएकमाहसेधानकीआवकमंडीमेंजारीहै।

बेमौसमीबारिशकाखरीदारभीखूबफायदाउठातेहैंऔरयहकिसानोंकीधानकोऔने-पौनेदामोंमेंखरीदतेहैं।बदलतेमौसमकेचलतेकिसानोंकोइनखरीदारोंकेसामनेमजबूरीवशअपनीधानकोकमदामोंमेंबेचनेकेविवशहोनापड़ा।मंडीमेंधानलेकरआएकिसानोंनेसरकारसेमांगकरबारिशसेहोरहेफसलोंमेंनुकसानकीभरपाईकेलिएधानकीफसलपरबोनसदेनेकीमांगभीकी।यदिबारिशइसीप्रकारजारीरहीतोकिसानोंकोधानमेंप्रतिएकड़आठसे10हजाररुपयेतककानुकसानउठानापड़सकताहै।मार्केटकमेटीसचिवअखिलेशशर्माकहाकिमंडीकेसभीआढ़तियोंकोबारिशसेनिपटनेकेलिएपूरीव्यवस्थारखनेकेआदेशदिएगएहैं।मंडीमेंखुलेआसमानकेनीचेपड़ीधानकोतिरपालोंसेढकवायागयाहै।मंडीमेंअबतककरीब80हजारक्विंटलधानआचुकाहै,जिसमेंसेकरीब60हजारक्विंटलबारीक1509हैऔर20हजारक्विंटलमोटाधानहै।उन्होंनेकिसानोंसेअपीलकरतेहुएकहाकिवहमोटीधानसरकारीखरीदशुरूहोनेकेबादहीमंडीमेंलेकरआए।