बजट से पूरी नहीं हुई किसानों की आस

जांच

जागरणसंवाददाता,मैनपुरी:प्रदेशसरकारकेबजटसेकिसानोंकोबहुतउम्मीदेंथीं।उनकाअनुमानथाकिइसबारआलूकिसानोंकीबदहालीकेलिएबजटमेंकोईनकोईठोसकदमजरूरउठायाजाएगा।लेकिनबजटमेंऐसाकोईप्रावधाननहोनेकेचलतेकिसानमायूसहीरहे।इसकेअलावाउनकीआयबढ़ानेकेलिएभीप्रदेशसरकारनेबजटमेंकोईध्याननहींदिया।हालांकिखादवगेहूंखरीदकेलिएकेंद्रखोलेजानेसेकुछराहतजरूरमिलेगी।अधिकांशकिसानबजटसेकोईलाभनहोनेकीबातकहरहेहैं।जिलेमेंकाफीआलूकाउत्पादनहोताहै।ऐसेमेंयहांआलूपरआधारितउद्योगकीबेहदजरूरतहै।आलूपरआधारितउद्योगलगेगातोआलूकीकीमतभीनिकलेगीऔरकिसानोंकोअपनाआलूभीनहींफेंकनापड़ेगा।बीतेदिनोंभोगांवविधायकरामनरेशअग्निहोत्रीनेमुख्यमंत्रीयोगीआदित्यनाथसेमिलकरजिलेमेंआलूपरआधारितचिप्सउद्योगलगानेकीमांगकीथी।लेकिनयेमांगभीपूरीभीनहींहोसकीहै।बजटमेंइसकाप्रावधाननहोनेकेकारणकिसाननिराशहैं।

किसानोंकीबातकिसानोंकेलिएकोईभीसरकारध्यानहीनहींदेतेहैं।जिसकेचलतेकिसानआत्महत्याकरनेकेलिएमजबूरहैं।इसबारभीप्रदेशसरकारनेबजटमेंकिसानोंकोकोईलाभनहींदिया।

रामभरोसे,बनखड़िया।

सरकारकोलघुकृषकोंकोनिश्शुल्कखादबीजउपलब्धकरानेकाप्रावधानकरनाचाहिएथा।जिससेछोटेकिसानोंकोभीबढ़ावामिलसकताहै।

जनाबनवी,बिछवां।

आलूकिसानोंकीहालतदिनबदिनखराबहोतीजारहीहै।लेकिनसरकारकेवलआलूकिसानोंकीहालतसुधारनेकेलिएबातेंकररहीहै।बजटमेंइसकेलिएकुछनहींहै।

राजेशकुमार,लाहुरीपुरा।

अगरसरकारवास्तवमेंकिसानोंकेलिएकुछकरनाचाहतीहैतोकिसानोंकीफसलकाबीमाकरनाचाहिए।जिससेअगरकोईनुकसानहोताहैतोउसकीभरपाईकीजासके।

चंद्रशेखर,लाहुरीपुरा।