छुट्टा जानवरों से फसल बचाइए, मसाले की खेती से कमाइए

जांच

गोंडा:छुट्टाजानवरोंसेपरेशानकिसानमसालेकीखेतीसेकमाईकरसकतेहैं,इसकेलिएसरकारीमददभीमिलेगी।राष्ट्रीयकृषिविकासयोजनाकेतहतमसालेकीखेतीपरकिसानोंको40प्रतिशतअनुदानमिलेगा।किसानोंकोवितरणकेलिएउद्यानविभागमेंबीजकीआपूर्तिहोगईहै।ऑनलाइनआवेदनकरनेवालेकिसानोंकोहीयोजनाकालाभमिलसकेगा।

अनाजहोयाफिरसब्जी।छुट्टाजानवरनकेवलफसलोंकोखाजातेहैं,बल्किरौंदकरबर्बादभीकरदेतेहैं।ऐसेमेंकिसानोंकीजहांपूंजीडूबजातीहै।उद्यानविभागनेराष्ट्रीयविकासयोजनाकेतहतकिसानोंकोमसालेकीखेतीपरआर्थिकमदददेनेकाफैसलाकियाहै।चालूवित्तीयवर्ष2018-19मेंप्याज,लहसुनवहरीमिर्चकीखेतीपरकिसानोंकोअनुदानमिलेगा।एककिसानकोअधिकतम12हजाररुपयेकीसब्सिडीमिलसकेगी।लाभकेलिएकिसानोंकोकृषिविभागकीवेबसाइटपरऑनलाइनपंजीकरणकरानाहोगा।प्याजवलहसुनकीखेतीकेलिएकिसानोंकोप्रमाणितबीज,जबकिहरीमिर्चकीखेतीकरनेकेलिएअनुदानकीराशिदीजाएगी।गोंडामें106.02हेक्टेयरमेंमसालेकीखेतीकराईजाएगी।इच्छुककिसानउद्यानविभागसेसंपर्ककरसकतेहैं।सहायकउद्याननिरीक्षकगिरीशकुमारमिश्रनेबतायाकिप्याज,लहसुनकीबोआई15नवंबरतककीजासकतीहै।

फसलवारलक्ष्यवअनुदान

-मसालेकीखेतीकेलिएलहसुनकालक्ष्य50हेक्टेयरतयकियागयाहै।जिसमेंअनुसूचितजातिकेकिसानकेलिएछहहेक्टेयरवअन्यकेलिए44हेक्टेयरनिर्धारितहै।एकहेक्टेयरमें1.33¨क्वटलबीजबोआईमेंलगेगा।जबकिप्याजकालक्ष्य50.2हेक्टेयरहै।22हेक्टेयरअनुसूचितजातिवअन्यकेलिए44.2हेक्टेयरहै।एकहेक्टेयरप्याजकीखेतीमेंदसकिलोप्याजदियाजाएगा।वहीं,हरीमिर्चकीखेतीकेलिए10हेक्टेयरकालक्ष्यनिर्धारितहै,इसकालाभसिर्फअनुसूचितजातिकेकिसानकोमिलेगा।मसालेकीखेतीपरप्रतिहेक्टेयरलागत30-40हजाररुपयेआएगी।