Coal Crisis: देश में गहराया बिजली संकट, 3 राज्यों में 20 प्लांट बंद, केंद्र से हस्तक्षेप की मांग

जांच

नईदिल्ली.देशमेंकोयलेकीकमी(CoalCrisis)सेबिजलीसंकटगहराताजारहाहै.पंजाब,केरल,औरमहाराष्ट्रकोमिलाकर20थर्मलपावरस्टेशनबंदहोचुकेहैं.हिंदुस्तानकीरिपोर्टकेमुताबिकइनमें3पंजाबमें,चारकेरलमेंऔरमहाराष्ट्रके13थर्मलपावरस्टेशनपरकामठपहै.वहींसंभावितबिजलीसंकट(PowerCrisis)कोदेखतेहुएकर्नाटकऔरपंजाबकेमुख्यमंत्रियोंनेकेंद्रसेअपनेराज्योंमेंकोयलेकीआपूर्तिबढ़ानेकाअनुरोधकियाहै.केरलसरकारनेचेतायाहैकिउन्हेंलोडशेडिंगकासहारालेनापड़सकताहै,वहींदिल्लीकेमुख्यमंत्रीअरविंदकेजरीवाल(ArvindKejriwal)नेप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदी(PMNarendraModi)सेहस्तक्षेपकाआग्रहकियाहै,ताकिकोयलेऔरगैसकोबिजलीआपूर्तिकरनेवालेसंयंत्रोंकीओरमोड़ाजासके.

बिजलीसंकटपरक्याकहतेहैंआंकड़ें

बिजलीमंत्रालय(MinistryofPower)केआंकड़ोंकेमुताबिकबिजलीकीखपतशनिवारकोलगभगदोप्रतिशतया7.2करोड़यूनिटघटकर382.8करोड़यूनिटहोगई,जोशुक्रवारको390करोड़यूनिटथी.इसकेचलतेकोयलेकीकमीकेबीचदेशभरमेंबिजलीकीआपूर्तिमेंसुधारहुआ.आंकड़ोंकेमुताबिकशुक्रवार,आठअक्टूबरकोबिजलीकीखपत390करोड़यूनिटथी,जोइसमहीनेअबतक(1-9अक्टूबर)सबसेज्यादाथी.बिजलीकीमांगमेंतेजीदेशमेंचलरहेकोयलासंकटकेबीचचिंताकाविषयबनगईथी.

अगलेतीनदिनमेंबढ़ेगीकोयलेकीआपूर्ति

बिजलीमंत्रालयनेकहाकिकोलइंडियालिमिटेड(सीआईएल)द्वाराकोयलेकीकुलआपूर्ति15.01लाखटनप्रतिदिनतकपहुंचगई.इसकारणखपतऔरवास्तविकआपूर्तिकेबीचअंतरकमहोगया.कोयलामंत्रालयऔरसीआईएलनेआश्वासनदियाहैकिवेअगलेतीनदिनमेंबिजलीक्षेत्रमेंकोयलेकीकोबढ़ाकर16लाखटनप्रतिदिनकरनेकेलिएभरपूरकोशिशकररहेहैंऔरउसकेबादइसेबढ़ाकर17लाखटनप्रतिदिनकियाजाएगा.

केंद्रसरकारनेक्याकहा

केंद्रीयबिजलीमंत्रीआरकेसिंहनेतापसंयंत्रोंमेंकोयलेकेभंडारकीस्थितिकीसमीक्षाकी.मंत्रालयनेचेतावनीदीकियदिकोईबिजलीवितरणकंपनीपीपीएकेअनुसारबिजलीउपलब्धहोनेकेबावजूदलोडशेडिंगकासहारालेतीहै,तोउसकेखिलाफकार्रवाईकीजाएगी.कोयलामंत्रालयनेस्पष्टकियाकिबिजलीउत्पादकसंयंत्रोंकीजरूरतकोपूराकरनेकेलिएदेशमेंकोयलेकापर्याप्तभंडारहै.

मंत्रालयनेकोयलेकीकमीकीवजहसेबिजलीआपूर्तिमेंबाधाकीआशंकाओंकोपूरीतरहनिराधारबताया.मंत्रालयनेबयानमेंकहा,‘कोयलामंत्रालयआश्वस्तकरताहैकिबिजलीसंयंत्रोंकीजरूरतकोपूराकरनेकेलिएदेशमेंकोयलेकापर्याप्तभंडारहै.इसकीवजहसेबिजलीसंकटकीआशंकापूरीतरहगलतहै.’

कोयलामंत्रीप्रह्लादजोशीनेट्वीटकिया,‘देशमेंकोयलेकेउत्पादनऔरआपूर्तिकीस्थितिकीसमीक्षाकी.मैंसभीकोभरोसादिलानाचाहताहूंकिबिजलीआपूर्तिमेंबाधाकीकोईआशंकानहींहै.कोलइंडियाकेमुख्यालयपर4.3करोड़टनकोयलेकाभंडारहैजो24दिनकीकोयलेकीमांगकेबराबरहै.’

पावरप्लांट्सकोरोजकितनाकोयलाचाहिए

कोयलामंत्रालयनेकहाकिबिजलीसंयंत्रोंकेपासकरीब72लाखटनकाकोयलाभंडारहै,जोचारदिनकेलिएपर्याप्तहै.कोलइंडियाकेपास400लाखटनकाभंडारहै,जिसकीआपूर्तिबिजलीसंयंत्रोंकोकीजारहीहै.देशमेंकोयलाआधारितबिजलीउत्पादनइससालसितंबरतक24प्रतिशतबढ़ाहै.बिजलीसंयंत्रोंकोआपूर्तिबेहतररहनेकीवजहसेउत्पादनमेंबढ़ोतरीहुईहै.बिजलीसंयंत्रोंकोप्रतिदिनऔसतन18.5लाखटनकोयलेकीजरूरतहोतीहै.दैनिककोयलाआपूर्तिकरीब17.5लाखटनकीहै.

क्याहैराज्योंकाहाल

पंजाब

राज्यमेंबिजलीआपूर्तिकीस्थितिगंभीरबनीहुईहैऔरराज्यकेस्वामित्ववालीपीएसपीसीएलनेरविवारकोकहाकिराज्यमें13अक्टूबरतकरोजानातीनघंटेतकबिजलीकटौतीकीजाएगी.कोयलेकीगंभीरकमीनेपंजाबराज्यविद्युतनिगमलिमिटेडकोबिजलीउत्पादनमेंकटौतीकरनेऔरबिजलीकीकटौतीकरनेकेलिएमजबूरहोनापड़ा.अधिकारियोंनेकहाकिकोयलेकेभंडारमेंकमीकेकारण,कोयलेसेचलनेवालेबिजलीसंयंत्रअपनीउत्पादनक्षमताके50प्रतिशतसेभीकमपरकामकररहेहैं.

अधिकारियोंनेरविवारकोकहाकिनिजीबिजलीतापीयसंयंत्रोंकेपासडेढ़दिनतकऔरराज्यकेस्वामित्ववालीइकाइयोंकेपासचारदिनोंतककोयलेकाभंडारहै.पीएसपीसीएलकेअध्यक्षऔरप्रबंधनिदेशकएवेणुप्रसादनेकहाकिराज्यभरमेंस्थितसभीकोयलाआधारितसंयंत्रोंकोकोयलेकीभारीकमीकासामनाकरनापड़रहाहै.

केरल

केरलकेबिजलीमंत्रीकेकृष्णनकुट्टीनेरविवारकोकहाकितापविद्युतसंयंत्रोंकेलिएकोयलेकीअनुपलब्धताकेकारणकेंद्रीयपूलसेबिजलीकीकमीलंबेसमयतकजारीरहनेकीस्थितिमेंराज्यसरकारकोलोड-शेडिंगकासहारालेनापड़सकताहै.कोयलेकीकमीकेकारणचारतापविद्युतस्टेशनबंदहोनेसेराज्यपिछलेकुछदिनोंसेकेंद्रीयपूलसे15प्रतिशतबिजलीकीकमीकासामनाकररहाहै.हालांकिअभीतक‘लोडशेडिंग’नहींहुईहै.

मंत्रीनेकहा,‘केरलपहलेसेहीप्रभावितहै.कल(शनिवार)हमेंकुंडनकुलमसेअपनेदैनिककोटेकाकेवल30प्रतिशतप्राप्तहुआ.ऑस्ट्रेलियासेकोयलेऔरविभिन्नपर्यावरणीयमुद्दोंसेसंबंधितमुद्देहैं.हमेंएकस्थायीसमाधानखोजनेकीजरूरतहै.अगरस्थितिलंबेसमयतकइसीतरहजारीरहतीहैतोहमेंराज्यमेंबिजलीकटौतीकरनीहोगी.’

उत्तरप्रदेश

मुख्यमंत्रीयोगीआदित्यनाथनेरविवारकोप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीकोपत्रलिखकरराज्यमेंकोयलेकीआपूर्तिसामान्यकरानेऔरप्रदेशकोअतिरिक्तबिजलीउपलब्धकरानेकाआग्रहकियाहै.ऑलइंडियापावरइंजीनियर्सफेडरेशनकेअध्यक्षशैलेंद्रदुबेनेरविवारकोबतायाकिउत्तरप्रदेशमेंसरकारीस्वामित्ववालीविद्युतइकाइयोंमेंकोयलेकीजबर्दस्तकिल्लतकेकारणबिजलीउत्पादनबहुतकमहोगयाहै,जिसकेकारणगांवोंतथाकस्बोंमेंबिजलीकीअत्यधिककटौतीकीजारहीहै.ऊर्जाविभागकेताजाआंकड़ोंकेमुताबिकइनइलाकोंमेंसाढ़ेतीनसेसवाछहघंटेतककीबिजलीकटौतीकीजारहीहै.

दुबेनेबतायाकिउत्तरप्रदेशमेंसरकारकेस्वामित्ववालेचारबड़ेपन-बिजलीसंयंत्रोंमेंसेपारीछाऔरहरदुआगंजमेंकेवलआधेदिनकाकोयलाबाकीरहगयाहै.ओबराऔरअनपरामेंभीमात्रदोदिनकाकोयलाहीबाकीरहगयाहै.नियमयहहैकिकोयलाखदानकेमुहानेपरस्थितबिजलीसंयंत्रोंमेंकमसेकमसातदिनकातथादूरस्थितसंयंत्रोंमेंकमसेकम15दिनकाकोयलेकाभंडाररहनाचाहिए.

दुबेनेबतायाकिएनटीपीसीकेविभिन्नबिजलीसंयंत्रोंमेंभीकोयलेकीजबर्दस्तकिल्लतउत्पन्नहोगईहै.देशमेंकुल135पनबिजलीसंयंत्रहैजिनमेंसेलगभगआधेमेंकोयलाखत्महोचुकाहै.उत्पादननिगमकेताजाआंकड़ोंकेमुताबिकउत्तरप्रदेशकीहरदुआगंजइकाईमेंबिजलीउत्पादन610केबजायमहज230मेगावाटजबकिपारीछामें920मेगावाटक्षमताकेबजायमात्र320मेगावाटबिजलीकाउत्पादनहोरहाहै.

कोलइंडियाकाबकाया

दुबेनेबतायाकिलैंकोऔररोजासमेतसभीनिजीबिजलीउत्पादनइकाइयोंमेंभीशून्यसेअधिकतमतीनदिनतककाहीकोयलाउपलब्धहै.उन्होंनेबतायाकिउत्तरप्रदेशमेंहालातऔरभीगंभीरइसलिएहोगएहैं,क्योंकिउत्तरप्रदेशपरकोलइंडियाकाकरीब1500करोड़रुपएकाबकायाहैलिहाजाउसनेउत्तरप्रदेशकोवरीयतासूचीमेंतीसरेनंबरपरडालदियाहै.

देशमेंकोयलेकारिकॉर्डउत्पादन

देशमेंइसवर्षकोयलाकाहालांकिरिकॉर्डउत्पादनहुआहै,लेकिनअत्यधिकवर्षानेकोयलाखदानोंसेबिजलीउत्पादनइकाइयोंतकईंधनकीआवाजाहीकोख़ासाप्रभावितकियाहै.गुजरात,पंजाब,राजस्थान,दिल्लीऔरतमिलनाडुसमेतकईराज्योंमेंबिजलीउत्पादनपरइसकागहराअसरपड़ाहै.कोयलासंकटकेकारणपंजाब,राजस्थान,तमिलनाडु,झारखंड,बिहारऔरआंध्रप्रदेशमेंभीबिजलीआपूर्तिप्रभावितहुईहै.

दिल्ली

इसबीचदिल्लीकेमुख्यमंत्रीअरविन्दकेजरीवालनेबिजलीसंकटकोलेकरप्रधानमंत्रीनरेंद्रकोएकपत्रलिखाहै.उन्होंनेपत्रमेंकहाकिवहव्यक्तिगतरूपसेइसस्थितिपरनजररखरहेहैंऔरऐसीस्थितिनआएइसकेलिएपूरीकोशिशकररहेहैं.

आंध्रप्रदेश

आंध्रप्रदेशकेमुख्यमंत्रीवाई.एस.जगनमोहनरेड्डीनेभीप्रधानमंत्रीकोलिखेपत्रमेंकहा,“कटाईकेअंतिमचरणमेंअधिकपानीकीआवश्यकताहोतीहैऔरयदिपानीनहींमिलता,तोखेतसूखजातेहैंऔरकिसानोंकोनुकसानउठानापड़ताहै.”

मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेशकेऊर्जामंत्रीप्रद्युम्नसिंहतोमरनेरविवारकोदावाकियाकिबिजलीसंकटनहींहैऔरराज्यबिजलीकेमामलेमेंबेहतरस्थितिमेंहै. उन्होंनेकहाकिराज्यसरकारनेअपनेबिजलीसंयंत्रोंकेलिएआठमीट्रिकटनकोयलाखरीदनेकेलिएटेंडरभीजारीकरदियाहै.

तोमरनेकहा,‘बिजलीसंकटराष्ट्रीयस्तरपरहैऔरइसमामलेमेंमध्यप्रदेशबेहतरस्थितिमेंहै.मंत्रीनेबतायाकिशनिवारकोराज्यकोकरीब45,000मीट्रिकटनकोयलामिला.तोमरनेकहा,‘मुझेलगताहैकिहमेंजल्दहीइससंकटसेछुटकारामिलजाएगा…राज्यमेंवर्तमानमेंकोईबिजलीसंकटनहींहै.’

कर्नाटक

मुख्यमंत्रीबसवराजबोम्मईनेकोयलेकीकमीकेकारणराज्यमेंसंभावितबिजलीसंकटकेमद्देनजररविवारकोकहाकिउन्होंनेकेंद्रसेकोयलेकीआपूर्तिबढ़ानेकेलिएकहाहै.बोम्मईनेकहा,‘मैंपहलेहीकहचुकाहूंकिहमनेकेंद्रसेकोयलेकीआपूर्तिचाररैकबढ़ानेकाअनुरोधकियाहै.’

उन्होंनेकहाकिकर्नाटककोमहाराष्ट्रकेचंद्रपुरऔरओडिशामेंमहानदीकोलफील्ड्सलिमिटेडकीखदानोंसेकोयलेकाआवंटनमिलाहैऔरदोनोंपरियोजनाओंकोमंजूरीकीजरूरतहै.

अन्यराज्योंकाहाल

गुजरातको1850,पंजाबको475,राजस्थानको380,महाराष्ट्रको760औरहरियाणाको380मेगावाटबिजलीकीआपूर्तिकरनेवालीटाटापावरनेगुजरातकेमुंद्रामेंअपनेआयातितकोयलाआधारितबिजलीसंयंत्रसेउत्पादनबंदकरदियाहै.अडाणीपावरकीमुंद्राइकाईकोभीइसीतरहकीसमस्याकासामनाकरनापड़रहाहै.

कोयलासंकटक्योंपैदाहुआ?

बिजलीसंयंत्रोंमेंकोयलेकेभंडारमेंकमीहोनेकेचारकारणहैं-अर्थव्यवस्थाकेपुनरुद्धारकेकारणबिजलीकीमांगमेंअभूतपूर्वबढ़ोतरी,कोयलाखदानोंमेंभारीबारिशसेकोयलाउत्पादनऔरढुलाईपरप्रतिकूलप्रभाव,आयातितकोयलेकीकीमतोंमेंभारीबढ़ोतरीऔरमानसूनसेपहलेपर्याप्तकोयलास्टॉकनकरना.(इनपुटभाषासेभी)

ब्रेकिंगन्यूज़हिंदीमेंसबसेपहलेपढ़ेंNews18हिंदी|आजकीताजाखबर,लाइवन्यूजअपडेट,पढ़ेंसबसेविश्वसनीयहिंदीन्यूज़वेबसाइटNews18हिंदी|

Tags:Arvindkejriwal,CoalCrisis,MinistryOfPower,Narendramodi,RKSingh,अरविंदकेजरीवाल,आरकेसिंह,कोयलासंकट,नरेंद्रमोदी,बिजलीसंकट