डीबीटी किसान हब परियोजना से बदली दो गांवों की तस्वीर

जांच

जागरणसंवाददाता,रामगढ़:केंद्रसरकारद्वाराघोषितआकांक्षीजिलारामगढ़केदोगांवोंकेकिसानकाफीखुशहैं।कृषिविज्ञानकेंद्र,रामगढ़,कौशल्याफाउंडेशनपटनावभारतीयकृषिअनुसंधानकेंद्रकेशोधकेंद्रप्लाण्डू,रांचीकेसहयोगसेभारतसरकारकेजैवप्रौद्योगिकीविभागकेप्रोजेक्टबायोटेक(डीबीटी)किसानहबपरियोजनाकेकारणहुआहै।इसपरियोजनाकेअंतर्गतमौसमीसब्जियांवफलोंकीखेतीकेलिएरामगढ़जिलेकेगोलाप्रखंडमेंकुष्टेगढ़ावकोरांबेगांवचयनकियागयाथा।प्रारंभमें50-60किसानहीइसपरियोजनामेंजुड़ेथे।यहांकेकिसानोंकोप्रशिक्षणदेकरजूनमाहमेंबाजारआधारितअधिककीमतदेनेवालीफसलजैसेस्वीटकॉर्न(मीठीमकई),मशरूम,ब्रोकली,पेंसिलबीन,स्ट्रोबरीवपपीताकीखेतीकरनेकेलिएप्रेरितकियागयाथा।पहलेतोयहांकेकिसानोंकेमनमेंडरथाकीअगरउत्पादनकमहुआऔरबिक्रीकेलिएबाजारनहींमिलातोउन्हेंनुकसानहोगा।लेकिनपरियोजनामेंशामिलकिसानोंकोवैज्ञानिकोंद्वाराबाजारआधारितखेतीकाप्रशिक्षणदियागया।शोधकेंद्रप्लाण्डूकेवैज्ञानिकडाविकासदासनेबतायाकीपरियोजनामेंशामिलकिसानोंकोप्रशिक्षणकेसाथ-साथसमूहमेंचयनितफसलोंकेलिएबीज,उर्वरकएवंकीटकीसलाहकेसाथ-साथआवश्यककीटनाशकउपलब्धकराएगए।किसानपरियोजनाकेअंतर्गतदिएगएस्वीटकोर्नकोवैज्ञानिकोंद्वाराप्राप्तप्रशिक्षणकेआधारपरलगायातथाजोकिसानअपनीपारम्परिकखेतीमेंसाधारणमक्काकीमतबाजारमें4-5रुपयेप्रतिकिलोमिलतीथीवहींस्वीटकोर्नरकोबाजारमें15रुपयेप्रतिकिलोकीदरसेखरीदारमिले।इसमेंस्वीटकॉर्नफसललगानेवालेकिसानोंकोदोगुनासेभीअधिकभीअधिकमुनाफाहुआ।इसलाभकोदेखतेहुएवहांकेकरीब400किसानोंनेइसपरियोजनासेअक्टूबरमाहमेंजुड़ेऔरउनकेद्वाराकरीब10एकड़क्षेत्रमेंस्वीटकॉर्नकीखेतीकी।वहींकिसानोंकोपपीतालगानेकाप्रशिक्षणदेकरउनसे15हजारपपीतेकेउच्चकिस्म(रेडलेडी)केपौधेसितम्बरमेंलगवाएगए।अबवहांकेकिसानफूलगोभीएवंपत्तागोभीकीखेतीछोड़करब्रोकली,पेंसिलबिन्स,स्ट्रोबरीकीखेतीप्रारम्भकरदीहै।उन्होंनेबतायाकिगोलाप्रखंडकोसब्जीकीखेतीअग्रणीमानाजाताहै।इसक्षेत्रमेंकिसानोंकोअधिकमूल्यपालेसब्जीएवंफलोकीखेतीकरनेकेलिएबायोटेककिसानपरियोजनाकेतहतकिसानोकोप्रेरितकरउन्हेंप्रशिक्षणदियागयातथासमय-समयपरवैज्ञानिकोंद्वाराखेतप्रमणकरकिसानोंकोजागरूककियागया।इनगांवोंकेकिसानरामगढ़जिलेकेअन्यकिसानोंकीमानसिकताबदलनेकाकामकरेंगे।