दिल्ली पुलिस की हीलाहवाली से भड़के दंगे नियंत्रण में तो आ गए, परंतु एक भारी कीमत चुकाने के बाद

जांच

[ प्रकाशसिंह ]:राजधानीदिल्लीकेदंगेनियंत्रणमेंतोआगए,परंतुएकभारीकीमतचुकानेकेबाद।45सेअधिकव्यक्तिइनदंगोंकीभेंटचढ़गएऔरकितनेहीलोगोंकीसंपत्तिऔरकारोबारकानुकसानहुआ।कुछकोपलायनभीकरनापड़ा।पुलिसनेअबतकनौसौसेज्यादालोगोंकोगिरफ्तारकियाहैऔर254एफआइआरदर्जकीजाचुकीहैं,जिनमें41आम्र्सएक्टकेअंतर्गतहै।

बड़ेपैमानेपरदंगाहोनादिल्लीऔरभारतसरकारदोनोंकेलिएशर्मकीबातहै

इतनेबड़ेपैमानेपरदंगाहोनादिल्लीऔरभारतसरकारदोनोंकेलिएहीशर्मकीबातहै।सबसेज्यादाकिरकिरीतोदिल्लीपुलिसकीहुई।इनदंगोंपरबहुतकुछकहा-लिखाजाचुकाहै।मैंतीनखासपहलुओंपरध्यानकेंद्रितकरनाचाहूंगा।पहलातोयहकिदंगेक्योंहुए?दूसरा,दंगोंकेलिएकिसकीजिम्मेदारीबनतीहैऔरतीसराक्याइसकीतुलना1984मेंहळ्एसिखविरोधीदंगोंसेकरनाउचितहोगा?

दिल्लीदंगोंकेबीजविधानसभाचुनावोंकेदौरानपड़ेथे

सांप्रदायिकदंगेभारतकेइतिहाससेजुड़ेहैं।समय-समयपर,अलग-अलगक्षेत्रोंमेंकिन्हींकारणोंसेचिंगारीजब-तबसुलगहीजातीहै।ऐसाप्रतीतहोताहैकिदिल्लीदंगोंकेबीजहालमेंहुएविधानसभाचुनावोंकेदौरानपड़ेथे।सभीपार्टियोंकेनेताओंनेगैर-जिम्मेदारानाबयानदिएयायूंकहिएकिखुलकरजहरउगला।राजनीतिकास्तरऔरवहभीदिल्लीमेंजहांसबसेज्यादापढ़े-लिखेलोगहैंकितनागिरसकताहै,यहजमकरदेखनेकोमिला।चुनावआयोगसेयहआशाकीजातीहैकिवहऐसेलोगोंपरअंकुशलगाएऔरउनकेविरुद्धप्रभावीकार्रवाईकरे।हालांकिकुछकार्रवाईअवश्यहुई,परंतुवहदिखावटीथी।उसेप्रभावीनहींकहाजासकता।

‘हेटस्पीच’देनाफैशनहोगया, एककेंद्रीयमंत्रीहैंजोअनाप-शनापबोलतेरहते हैं

अपनेदेशमें‘हेटस्पीच’देनाफैशनजैसाहोगयाहै।एककेंद्रीयमंत्रीहैंजोआएदिनअनाप-शनापबोलतेरहतेहैं,उनकीजुबानपरकोईलगामनहींहैं।नेतृत्वसेचेतावनीकेबादभीउनपरकोईअसरनहींहोता।एकसाध्वीहैंजोमूर्खतापूर्णबयानदेनेसेबाजनहींआतीं।असदुद्दीनओवैसीकीपार्टीमेंभीबड़बोलेनेताभरेपड़ेहैं।वेहिंदुओंकोनेस्तनाबूदकरनेकीधमकीदेतेरहतेहैं।मुख्यमंत्रीस्तरपरभीअजीब-अजीबबयानसुननेकोमिलतेहैं।

एकमुख्यमंत्रीनेजामियामेंपुलिसकार्रवाईकीतुलनाजलियांवालाबागसेकरदीथी

एकमुख्यमंत्रीनेजामियामेंपुलिसकार्रवाईकीतुलनाजलियांवालाबागसेकरदीथी।एकअन्यमुख्यमंत्रीनेअभीहालमेंहीकहाकिइसदेशमेंवहीलोगरहसकतेहैंजो‘भारतमाताकीजय’बोलें।इनलोगोंकेमुंहपरपार्टीनेताओंकोटेपचिपकानेकीजरूरतहै।औरभीअच्छाहोगायदिइन्हेंएकसालकेलिएकिसीविपश्यनाजैसेकेंद्रमेंभेजदियाजाए।इनसभीलोगोंकेबयानोंनेसांप्रदायिकसद्भावबिगाड़ा।

दिल्लीपुलिसकीहीलाहवालीसेसांप्रदायिकचिंगारी नेदावानलकारूपलेलिया

अबरहीजिम्मेदारीकीबात।पुलिसकीजिम्मेदारीकेबारेमेंबहुतकुछकहाजारहाहै।इसमेंसंदेहनहींकिपुलिसनेशुरूमेंहीलाहवालीकी,जिसकीवजहसेसांप्रदायिकचिंगारी नेदावानलकारूपलेलिया,परंतुबाकीसंस्थाओंकीजिम्मेदारीकाउल्लेखभीआवश्यकहै।उपराज्यपालमहोदय,जोगृहमंत्रालयकेप्रतिनिधिहैं,उन्होंनेक्याभूमिकानिभाई?दिल्लीकेमुख्यमंत्री,जोभारीबहुमतसेजीतकरआएहैं,उनसेऔरउनकीपार्टीकेनेताओंसेउम्मीदथीकिवेलोगसड़कपरउतरकरलोगोंकोशांतकरनेकाप्रयासकरेंगे।ऐसाकुछ भीनहींदिखा।

गृहमंत्रालयकेआदेशकेअनुपालनमेंपुलिसनिष्क्रियहोगईथी

सरकारीखजानेसेधनराशितोकोईभीबांटसकताहै।केंद्रीयगृहमंत्रीकेबारेमेंबहुतकुछकहाजारहाहैऔरउनकेइस्तीफेकीभीमांगहोरहीहै।इसमेंसंदेहनहींकिअंततोगत्वाजिम्मेदारीतोगृहमंत्रालयकीहीबनतीहै,परंतुयदिव्यावहारिकदृष्टिकोणसेदेखाजाएतोगृहमंत्रालयकेवलनीतिगतनिर्देशदेताहै।रोजानाकेकामकाजमेंआशायहीकीजातीहैकिवहदखलनहींदेगा।यहांयहकहाजासकताहैकिउनकेआदेशकेअनुपालनमेंपुलिसनिष्क्रियहोगईथी।हालांकिसोचनेकीबातयहहैकिकोईगृहमंत्री,अपनेहोशोहवासमेंऔरवहभीजबअमेरिकीराष्ट्रपतिभारतमेंहोंतबऐसीकोईघटनाक्योंघटितहोतेदेखनाचाहेगाजिससेदेशकोशर्मसारहोनापड़े?

एकदंगाईकोपुलिसकेजवानपरपिस्तौलतानकरधमकातेहुएपूरेदेशनेदेखा

यदिपूरेघटनाक्रमकाविश्लेषणकियाजाएतोगंभीरघटनाएं23और24फरवरीकोहुईथीं।उन्हींदिनोंशाहदराकेडीसीपीअमितमिश्राकोदंगाइयोंनेपीटा,खुफियाब्यूरोकेकर्मचारीअंकितशर्माकीबेरहमीसेहत्याकीगईऔरहेडकांस्टेबलरतनलालकोगोलीमारदीगई।एकदंगाईकोपुलिसकेएकजवानपरपिस्तौलतानकरधमकातेहुएपूरेदेशनेदेखा।वहबड़ीमुश्किलसेगिरफ्तारकियाजासका।इनघटनाओंकेलिएकौनजिम्मेदारथा,इसपरज्यादाकुछकहनेकीआवश्यकतानहींहै।

जिसपैमानेपरदंगेहुए,उनकीतैयारीबड़ेसुनियोजितढंगसेहुईथी

इसीतरहयहभीलगताहैकिसत्तारूढ़पार्टीकेलोगोंनेभीदंगेमेंप्रतिक्रियास्वरूपहिस्सालिया।सरकारीसूत्रोंसेबार-बारपॉपुलरफ्रंटऑफइंडियायानीपीएफआइकीभूमिकापरभीसवालउठायाजारहाहै।यहतोस्पष्टहैकिजिसपैमानेपरदंगेहुए,उनकीतैयारीबड़ेसुनियोजितढंगसेहुईथी।इसकेलिएकौनव्यक्ति,पार्टीयासंगठनमुख्यरूपसेजिम्मेदारहै,उन्हेंचिन्हितकरनेकीआवश्यकताहै।उचितहोगायदिइसप्रकरणमेंएकन्यायिकजांचबैठाईजाएताकिसहीतथ्यसामनेआसकें,अन्यथाआरोप-प्रत्यारोपकादौरबदस्तूरचलतारहेगा।

पुलिसकोसंबलप्रदानकियाजाए,उसकेकामकाजमेंराजनीतिकहस्तक्षेपनहो

कुछलोगइनदंगोंकीतुलना1984केसिखविरोधीदंगोंसेभीकररहेहैं।मेरेविचारसेयहउनकेसीमितज्ञानकापरिचायकहै।1984मेंसांप्रदायिकनरसंहारहुआथा,हमलेएकतरफाथे।इसकेविपरीत2020मेंसांप्रदायिकदंगाहुआ,जिसमेंदोनोंपक्षोंनेएकदूसरेपरप्रहारकिया।भविष्यकेलिएयहअत्यंतआवश्यकहैकिपुलिसकोसंबलप्रदानकियाजाए,उसकेदिनोंदिन कामकाजमेंराजनीतिकहस्तक्षेपनहो।

सुप्रीमकोर्टसीएएपरतत्कालविचारकरे,अन्यथाइसकानूनपरअंतरिमरोकलगादे

शाहीनबागसेधरनाखत्महोजानाचाहिएऔरयदिआवश्यकतापड़ेतोइसकेलिएमहिलापुलिसद्वारान्यूनतमबलप्रयोगकियाजाए।सुप्रीमकोर्टकोचाहिएकिवहनागरिकतासंशोधनकानूनकीसंवैधानिकतापरतत्कालविचारकरेऔरयदिउसमेंविलंबहोतोइसकानूनपरफिलहालअंतरिमरोकलगादीजाए।

इससमयअंतरराष्ट्रीयमाहौलभारतकेविपरीतहोताजारहाहै,उसेसंभालनेकीजरूरतहै

इससमयअंतरराष्ट्रीयमाहौलभारतकेविपरीतहोताजारहाहै,उसेसंभालनेकीजरूरतहै।हमेंयहभीसमझनापड़ेगाकिदेशमेंसांप्रदायिकसौहार्दबनाएरखनाअत्यंतआवश्यकहै,अन्यथाइस्लामिकस्टेटऔरअन्यआतंकीएवंकट्टरपंथीसंगठनइसमाहौलकालाभउठाकरआंतरिकसुरक्षाकेलिएगंभीरचुनौतीखड़ीकरसकतेहैं।

(लेखकउत्तरप्रदेशकेपुलिसमहानिदेशकरहेहैं)