दंगल गर्ल दिव्या काकरान बोलीं- गांव वालों के लिए लड़की को अखाड़े में देखना बिल्कुल नया था, हर गली से चलती थी तानों की तलवारें

जांच

उत्तरप्रदेशकेमुजफ्फरनगरजिलेकेसामान्यसेगांवपुरबालियनमेंआजजश्नकामाहौलहै।गांवकेअखाड़ोंमेंजैसेहीअपनेगांवकीबेटीमहिलापहलवानदिव्याकाकरानकेविश्वरैकिंगमेंदूसरेस्थानपरआनेकीखबरमिलीतोहरपहलवानकासीनागर्वसेचौड़ाहोगया।हुक्कागुड़गुड़ातेगांवकेबुजुर्गगांवकीबेटीकीसफलतापरशेखीबघारतेहुएकहतेहैं,हमेंतोअपनीलालीपेपूराभरोसाथा,योनामरोसनकरेगीपुरबालियनका।

दिव्याकीसफलताकीखबरनेगांवसेजानलेवाकोरोनाकाखौफकाफूरकरदिया।दिव्याकेपितासूरजवीरसैनसेमिलनेगांवकेपहलवानआरहेहैं।आखिरबिटियानेएकबारफिरगांवकानामविश्वफलकपरचमकायाहै।पहलवानोंकेलिएलंगोटसिलनेवालीदिव्याकीमांसंयोगिताकेचेहरेपरआजफिरखुशीकासूरजउगाहै।मांगर्वसेकहतीहैमन्नेतोभरोसाथाअपनीलाडोपर,बसदूसरोंकोअबहुआहै।

यूनाइटेडवर्ल्डरेसलिंगकीरैकिंगमेंमहिलापहलवान72किलोवर्गभारमेंदिव्याकाकराननेदूसरेस्थानपरजगहबनाईहै।ग्रामीणपरिवेश,आर्थिकतंगीकेमाहौलसेनिकलकरविश्वपटलपरचमकीपहलवानदिव्या(22)नेभास्करसंवाददाताकोबताईसफलताकीकहानी...

दंगलकापहलादांवपापानेसिखाया

मेरेपहलेगुरुपापाजीहैं।पापाजीखुदपहलवानीकरतेहैं।दादाजी,दोनोंभाईभीपहलवानहैंतोघरमेंशुरूसेपहलवानीकामाहौलरहा।पहलावानोंकोदेखकरहीबड़ीहुई,बसपापाजीनेकहाकिबेटीकोपहलवानबनाऊंगा।उनकेसपनेमेंमैंभीख्वाबदेखनेलगी‌पहलवानबननेके,मगरयेख्वाबसचहोगासोचानथा।

कुल5या6सालकीथी,तबपापाजीनेघरपरहीपहलवानीसिखानीशुरूकी।तीनोंभाई-बहनोंकोट्रेंडकरतेथे।धीरे-धीरेसफलतामिलीतोदिल्लीमेंआकरट्रेनिंगकरनेलगी।हरबच्चेकोअपनेजीवनकीपहलीसीखपितासेमिलतीहै,मुझेपहलवानीकीपहलीसीखपापाजीनेदी।

कांटोंभरीथीआंगनसेअखाड़ेकीडगर

आजसफलहूंतोसबमुझेजानतेहैं।सबखुशहोतेहैंलेकिनसफलताकायेसफरसरलनहींथा।पापाजीनेघरपरअखाड़ाबनाकरट्रेनिंगशुरूकराई।लेकिनपक्केगेमकेलिएट्रेनिंगभीपक्कीचाहिए।दादाजीजोखुदपहलवानरहेउन्होंनेसुनाकिलड़कीलड़ेगीदंगलतोमुंहफुलालिया,बोलेअबयोदिनदेखेंगेहम,घरकीलालीदंगललड़ेगी।

दादीनेइसलिएमनाकरदियाकिशादीनहींहोगी।बोलीकुश्तीमेंहाथपांवटूटजाएंगे,चेहराबिगड़जाएगाशादीनहोगीइसलिएरहनदे।लेकिनपापाजीकीजिदथीवोडटेरहे।परिवारकेबादगांववालोंकेलिएकिसीलड़कीकोअखाड़ेमेंदेखनाआसाननहींथा।हरगलीसेतानोंकीतलवारेंचलती,कोईखुलकरतोकोईखुसुर-फुसुरकरबातबनाता।

आर्थिकतंगीकोहरानाथामुश्किल

हमारेपापाजीपहलवानीकरनेकेसाथपहलवानोंकेजांघ,लंगोटबेचनेकाकामकरते।मम्मीखुदपहलवानोंकेजांघ,लंगोटतैयारकरतीऔरपापाजीबेचते,तबघरचलता।इसआमदनीमेंलड़कीकोपहलवानबनानेकेलिएघी,बादामकीप्रोटीनडाइटकहांसेलाएं।

मेरीलड़ाईगांवकेमाहौल,गांववालोंकेतानोंकेसाथआर्थिकहालातोंसेभीथी।कईदफादूधभीनहींमिला।बादाम,देसीघीकबखानेमिलताथायादनहींहै।लेकिनमम्मी,पापाजीनेकभीहारनेनहींदिया।जोबनतावोकरतेऔरमुझेसफलबनाया।

लोगतोमजाकउड़ातेहीथे,मैंअनदेखाकरतीथी

साल2010में12सालकीथीतोपहलादंगलहरियाणामेंलड़ाथाऔरजीतभीगई।इससेपहलेगांवमेंलड़कोंकेसाथअखाड़ेमेंउतरीऔरमुकाबलाकिया।अखाड़ेमेंपहलेलड़कोंकेसाथकुश्तीलड़करअभ्यासकरतीथी,क्योंकिगांवमेंलड़कियोंकोकुश्तीलड़नेकीइजाजतनहींथी।पापाजीनेपहलेभाईयोंकेसाथअखाड़ेमेंउतारनाशुरूकिया।

तबजोभीगांववालेदेखतेतोशाबाशीकेलिएनहींहंसीउड़ानेकोरुकतेथे।कहतेयेदेखलोजीलड़कीलड़ेगीदंगल,वोभीलड़कोंकेसाथ।लालीनेतोविदेसजानाहैमेडलजीतनकेवास्ते।वोबातेंआजभीचुभतीहैं,किहमलड़कियोंकोकमजोरक्योंआंकतेहैं।लड़कीहैतोउसेभीखुलकरजीनेकामौकादो।आजसफलहूंतोसबअपनासीनाठोंककरकहतेहैंकिहमदिव्याकाकरानकेगांवसेहैं।तबयेलोगकहतेथेकिइससेबड़ीशर्मनहींहोसकतीकिअबलड़कीअखाड़ेमेंउतरेगी।

सुकुनचाहतेहोतोकामपरफोकसकरो

अगरज़िंदगीमेंसुकूनचाहिएतोबातोंपरनहींअपनेकामपरफोकसकरो।लोगोंकीबातोंपरफोकसआपकाध्यानभटकाएगाऔरआपलक्ष्यसेचूकजाओगे।मैंनेजीवनमेंकभीबातोंपरध्याननहींदिया।लोगोंकेतंजसहे,तानेसुनेमगरलक्ष्यसेनहींभटकी।