दो साल पहले अपना नाम और पता भूल चुका शख्स पहुंचा घर, पुलिस ने इस तरह की मदद

जांच

कोलकाता।एकवक्तअपनेघरकोपूरीतरहसेभूलचुकाव्यक्तिअपनेघरवापसलौटआयाहै।पश्चिमबंगालकेबेरहमपुरजिलेमेंएकमेंटलहॉस्पिटलमेंदोसालबितानेकेबाद37वर्षीयधरमबीरदासराजस्थानमेंवापसअपनेघरलौटआएहैं।दासको2016मेंमुर्शीदाबादमेंअजीमगंजरेलवेस्टेशनकेपाससेरेस्क्यूकियागयाथा,जिसकेबादसेवोबेरहमपुरजिलेकेमेंटलअस्पतालमेंरहरहेथे।

हिंदुस्तानटाइम्सकीखबरकेमुताबिकदाससितंबर2016मेंअजीमगंजरेलवेस्टेशनकेपाससेमिलेथे।जियागुंजपुलिसस्टेशनकेऑफिर-इंचार्जअभिजीतबासुमलिककेमुताबिकदासतबअपनीभाषाऔरकुछहिंदीकेशब्दबोलरहेथे,लेकिनलोकलपुलिसकोकुछभीसमझनहींआरहाथा।उन्होंनेबताया,'उन्हेअपनानामयाकहांसेआयाहै,येतकमालूमनहींथा।हमनेमहसूसकियाकिउसेइलाजकीजरूरतहैऔरलालबागअदालतसेउन्हेंबेरहमपुरमेंटलअस्पताललेजानेकीइजाजतमांगी।कोर्टनेइसकीइजाजतदेदी।'

मलिकनेबतायाकिउन्हें29अक्टूबर,2016कोअस्पतालमेंभर्तीकरायागया।एकसालतकइलाजकेबादभीउन्होंनेकुछरिस्पॉन्सनहींदिया।इससालजनवरीसेउनकीसेहतमेंसुधारदेखनेकोमिला,जिसकेबादउन्होंनेडॉक्टर्सकोबतायाकिवोभरतपुरकेएकगांवसेहैं।मलिककेअनुसार19नवंबरकोअस्पतालकेअधिकारियोंनेउन्हेंबतायाकिदासबेहतरमहसूसकररहेहैंऔरवोउनसेमिलसकतेहैं।

मलिककेअनुसार,'दासनेहमेंजोबताया,हमनेउसकेआधारपरराजस्थानकेलक्ष्मणगढ़पुलिसस्टेशनमेंसंपर्ककिया।राजस्थानपुलिसनेकफनवाड़ागांवमेंरहनेवालीदासकीमांसेमिलवानेमेंहमारीमददकी।'उधरराजस्थानमेंरहरहादासकापरिवारमानचुकाथाकिवोअपनेबेटेकोअबदोबाराकभीनहींदेखपाएंगे।

दासकेरिश्तेदारअजयकुमारनेबतायाकिवो2015मेंदिल्लीमजदूरीकरनेगएथे,लेकिन2016मेंवोगायबहोगए।अजयनेकहाकिउनकापरिवारदोसालतकधरमबीरकीदेखभालकरनेकेलिएहमेशामुर्शिदाबादपुलिसकाआभारीरहेगा।