गांवों में बसती है भारत की आत्मा

जांच

जागरणसंवाददाता,रोहतक:समाजमेंसामाजिकचेतनालानेकीपहलकरतेहुएशिक्षाभारतीवरिष्ठमाध्यमिकविद्यालयनेगांवमकड़ोलीखुर्दमेंपोषकग्रामगोष्ठीकाआयोजनकियागया।इसगोष्ठीकीअध्यक्षतागांवकेसरपंचसुमितबजाड़नेकी।वहींमुख्यवक्ताविद्यालयके¨हदीविभागकेआचार्यमनजीतरहे।विद्यार्थियोंनेदेशभक्तिकविता,कहानी,समूहगीतआदिकेमाध्यमसेअपनेसंस्कारोंकाप्रदर्शितकिया।इसदौरानमनजीतनेबतायाकिभारतकीआत्मागांवमेंबसतीहै।क्योंकिभारतीयसंस्कृति,सभ्यताकोगांवकेमाध्यमसेहीपोषणप्राप्तहोताहै।आजकीयुवापीढ़ीकोगांवकीपृष्ठभूमिकोजाननाबहुतजरूरीहै।तभीवहअपनीसंस्कृतिकोआगेतकलेजासकतेहैं।गोष्ठीकेदौरानसरपंचसुमितनेबतायाकिजिसप्रकारकेसंस्कारोंकीकल्पनाएकविद्यालयकरताहै।उसीतरहसेग्रामीणोंकोभीअपनेग्रामीणआंचलकोबचानाचाहिए।गोष्ठीमेंजितेंद्रचावला,पवनआहूजा,आशुकालरा,नीलमरानीमौजूदरहे।