हेमंत राज में कानून-व्यवस्था बदहाल : विमला प्रधान

जांच

जासं,सिमडेगा:राज्यमेंगिरतीकानूनव्यवस्थाएवंबढ़तेदुष्कर्मकीघटनाओंकेविरोधमेंजिलाभाजपाकेकार्यकर्ताओंनेमहावीरचौक

पररविवारकोधरनादिया।इसमौकेपरपूर्वमंत्रीविमलाप्रधाननेराज्यसरकारकोनिशानेपरलेतेहुएकहाकिजबसेहेमंतसरकारआईहै,तबसेराज्यमेंकानूनव्यवस्थाकाहालबदहालहै।हरदिनमहिलाविरोधीहिसावदुष्कर्मकेमामलेसामनेआतेरहेहैं।राज्यकीसरकारमहिलाओंकोसुरक्षादेनेमेंविफलसाबितहुईहै।भाजपाजिलाध्यक्षलक्ष्मणबडाईकनेहेमंतसरकारपरनिशानासाधतेहुएकहाकिराज्यमेंमहिलाएंअसुरक्षितहोगईहै।कहाबरहेट,गुमलाऔरसिमडेगाकेजलडेगावालीघटनाओंकाउल्लेखकरतेहुएकहाकिराज्यमेंकानूननामकीचीज़खत्महोगईहै।महिलाओंपरऔरछोटेबच्चियोंपरअत्याचारबढ़गयाहै।महिलाएंघरसेनिकलनेसे

पहलेसौबारसोचतीहैं।उन्हेंअक्सरअसुरक्षाकीभावनाकासामना

करनापड़ताहै।इधरअपनेहाथोंमेंतख्तियोंलेकरभाजपाईयोंने

सरकारविरोधीनारेलिखेगएथे।इनमेंमुख्यरूपसेहेमंतसरकार

शर्मकरो-नारीकोसुरक्षादो,साध्वीछात्रादिव्यांगलाचार-सभीपर

हुएअत्याचार,कांग्रेसवझामुमोकीसरकार-सुनलोमहिलाकीचित्कारआदिनारेशामिलथे।धरनेकेबादराज्यपालकेनामएकज्ञापनउपायुक्तकोसौंपेनेकानिर्णयलियागया।धरनाकार्यक्रममेंजिलाध्यक्षलक्ष्मणबड़ाईक,जिलामहामंत्रीदीपकपुरी,कोषाध्यक्षअनूपप्रसाद,महिलामोर्चाअध्यक्षकमलाकुमारी,जिलामीडियाप्रभारीकृष्णाठाकुर,किसानमोर्चाजिलाअध्यक्षरामविलासबड़ाईकसुजानमुंडा,रुनीकुमारी,सावित्रीदेवी,दुर्गविजयसिंहदेव,रविकांतप्रधान,हिदूदेवी,निर्मलादेवी,उत्तमकेरकेट्टा,विनयबाघवार,अशोकगुप्ता,जोगिदरराम,मनोजचौबे,गिरधारीप्रसाद,संजयकेवटआदिमौजूदथे।