हरी खाद ढैंचा-सनई की करें खेती

जांच

जागरणसंवाददाता,छपरा:कमवर्षापातएवंसूखेकीस्थितिकोदेखतेहुएकिसानोंकोखरीफमौसममेंधानकेबजाएमक्का,बाजरा,मड़ुवा,अरहरऔरउड़दजैसेफसलोंकीखेतीकरनाचाहिए।इसकेसाथहीवेहरीखादढैंचाकीखेतीकरें।खेतकीमेड़ोंपरसागवानकेपौधेलगाएं।इससेउन्हेंज्यादाआमदनीहोसकतीहै।सूखेकीस्थितिमेंपानीबचानेकेलिएकिसानजैविकखेतीअपनासकतेहैं।ढैंचा,सनई,मूंग,उड़दजैसेफसलोंकेअवशेषकोउसीखेतमेंडालदेनेसेखेतोंकेपानीधारणक्षमताकोबढ़ायाजासकताहै।इनफसलोंकोखेतसेउखाड़ेंनहींबल्किउसेखेतोंमेंहीदबादेनेसेयहखादबनजाताहै।किसानोंकोयहमहत्वपूर्णसुझावजिलाकृषिपदाधिकारीजयरामपालनेदी।वेदैनिकजागरणकेछपराकार्यालयमेंआयोजित'प्रश्नप्रहर'कार्यक्रममेंकिसानोंकेप्रश्नोंकेजवाबदेरहेथे।

जिलेकेअनेकहिस्सोंसेदर्जनोंकिसानोंनेफोनकरउनसेकृषिसेजुड़ीसमस्याएंशेयरकी।मांझीप्रखंडकेमदनसाठगांवसेदेवेंद्रसिंहकेसवालपरडीएओनेकहाकिधानकीखेतीमेंयहध्यानरखाजानाचाहिएकिइसकेलिएनीचीजमीनकाचयनकरें।इसकेसाथहीधानबीजोंकाचयनकमअवधिवालाहोतोबेहतरहोगा।धानकेप्रभेदोंमेंतुरंता,साकेत-4,प्रभात,पूसारोड्स-21,राजेंद्रभगवती,सहभागीआदिउत्तमप्रभेदहैं।इसमेंसरकारकीओरसेअनुदानकाभीप्रावधानहैजिसकालाभउठायाजासकताहै।

बनियापुरकेपिठौरीनिवासीसोनूकुमारतिवारीनेपूछाकिवेतीनकट्ठाजमीनमेंपेड़लगानाचाहतेहैं।डीएओनेबतायाकिबागवानीफायदेकीस्कीमहै,इसकेलिएसरकारीअनुदानकीभीव्यवस्थाहै।वनविभागयोजनाचलारहीहै।ग्लोबलवार्मिंगसेनिजातकेलिएहरखेतकीमेड़परसागवानकेपौधेलगाएजासकतेहैं।खेतोंमेंउत्तरसेदक्षिणकीओरवालेदोनोंमेड़परएकसेदोमीटरकीदूरीमेंसागवानकापेड़लगानाफायदेमंदहोगा।हरएकसालपरइसकीछंटाईहोनीचाहिएताकिपेड़सीधेउपरकीओरबढ़े।इसमेंखासियतहैकिइनपेड़ोंकेलगानेसेसाथ-साथअन्यफसलोंकीखेतीभीकीजासकतीहै।रिविलगंजबाजारकेसुरेंद्रसिंहनेखेतोंमेंकीटनाशककेप्रयोगकेबारेमेंजाननाचाहा।डीएओनेकहाकिइसकेलिएविषयविशेषज्ञकीसहायतालीजासकतीहै।खरीफमहाअभियानएवंकिसानचौपालमेंशामिलहों।वहांकृषिवैज्ञानिकइसकीबेहतरजानकारीदेंगे।उन्होंनेकिसानकोविषयविशेषज्ञकानंबरभीउपलब्धकराया।

मकेरप्रखंडकेबाघाकोलसेसंतोषकुमारसिंहनेसामुदायिकनर्सरीकेबारेमेंजानकारीमांगी।डीएओनेकहाकिसामुदायिकनर्सरीकेतहतइससमयधानकाबिचड़ालगायाजारहाहै।इसकेलिएजिलेमें200एकड़भूमिकाचयनकियागयाहै।संबंधितकिसानोंकोअनुदानितदरपरउन्नतप्रभेदकेधानकेबीजमुहैयाकराएजारहेहैं।इसयोजनामें7340रुपयेइनपुटदिएजारहेहैं।सामान्यकिस्मपर20रुपयेप्रतिकिलोएवंहाइब्रीडपर100रुपयेतककाअनुदानदियाजाएगा।

जलालपुरप्रखंडकेविष्णुपुरासेललनकुमारपांडेयनेनीलगायऔरजंगलीजानवरोंकीसमस्यासेनिजातकेबारेमेंजानकारीचाही।डीएओनेबतायाकियहमामलावनविभागसेजुड़ाहै।वैसेप्रावधानकेअनुसारनीलगायोंकोपूरीतरहसमाप्तनहींकरनाहै,बल्किइसकीसंख्याकमकीजातीहै।यहसमस्याकाफीगंभीरबनीहुईहै,इसकेलिएपुन:वनविभागकोलिखाजाएगा।वहींदरियापुरकेपरशुरामपुरसेनरेंद्रकुमारनेपीएमकिसानसम्माननिधिकेबारेमेंपूछा।कहाकिइसकेलिएआवेदनकियाथा,उनकानामचयनितसूचीमेंभीहै,लेकिनअभीतकखातेमेंपैसानहींआयाहै।डीएओनेकहाकियहसमस्याबैंकखातेकेआधारसेलिकनहींहोनेकेकारणहोसकतीहै।आपतुरंतअपनेबैंकशाखासेसंपर्ककरेंऔरखातेकोएनपीसीआईमेंडलवानेकाकामकरें,तुरंतकीराशिमिलजाएगी।

प्रश्नप्रहरकेदौरानइनकेअलावादर्जनोंअन्यकिसानोंनेभीखेतीसेसंबंधितजानकारीचाही,जिसकाडीएओनेसमाधानकिया।डीएओनेकिसानोंसेकहाकिसरकारीस्तरपरकिसानोंकेहितमेंअनेकयोजनाएंसंचालितकीजारहीहै।इसकेलाभकेलिएकिसानआगेआएंऔरसमय-समयपरयोजनाओंकेलाभकेलिएअपनाआवेदनकरतेरहें।उन्होंनेपंचायतस्तरपरलगनेवालेकिसानचौपालऔरकृषिमहाभियानकेदौरानकृषिविशेषज्ञोंकीसलाहलेनेकीभीअपीलकी।