किसी को पति का इंतजार तो कोई बेटे के लिए बेकरार; आंखों में सवाल- बेटियों की शादी कैसे होगी, जिंदगी पहाड़ सी लग रही

जांच

उत्तराखंडत्रासदीमेंझारखंडके15मजदूरलापताहैं।हादसेके3दिनबादभीउनकाकुछपतानहींचलपायाहै।इनमेंलाेहरदगामेंबेटहटके9औररामगढ़जिलेकेमगनपुरके6युवकशामिलहैं।दोनोंहीजिलोंसेलापतामजदूरोंकेपरिवारअबखुदकोबेसहारामानरहेहैं।परिजननेकहाकिउनका,भाई,बेटा,पतिघरकीदशासुधारनेगएथे,लेकिनअबलापताहोनेसेघरकीहालतबिगड़गईहै।

दैनिकभास्करकीटीमलापतामजदूरोंकेपरिजनसेमुलाकातकरनेपहुंची।लोहरदगाजिलेकेबेटहटमेंरहनेवालीप्रमिलाबाखलानेबतायाकिउनकेपतिउर्वानुसबाखलाकाकुछपतानहींचलरहाहै।उन्होंनेबतायाकिपतिकेभरोसेहीघरचलरहाहै।दोबेटियोंकीशादीकरनीहै।अबपतिकीकोईखबरनहींमिलनेसेजिंदगीपहाड़सीलगरहीहै।

गांवमेंबातचीतकेदौरानपताचलाकियहांसेNTPCकेपावरप्रोजेक्टमेंकामकरनेगएलोगोंमेंअधिकतरयुवाहैं।करीब6हजारकीआबादीवालेबेटहटगांवमेंज्यादातरपरिवारखेतीपरहीनिर्भरहै।गांवकेलोगोंनेबतायाकिगांवमेंथोड़ीबहुतखेतीहोतीहैलेकिनयेइतनीनहींहैकिकिसानीपरहीपरिवारनिर्भररहे।लिहाजा,घरकाकोईसदस्यबाहरनौकरीकेलिएजाताहीहै।कुछपरिवारतोऐसेभीहैंजिनकीआर्थिकस्थितिबेहदहीखराबहै।ऐसेमेंघर-परिवारकोछोड़दूसरेराज्योंमेंमजदूरीकेलिएजानामजबूरीबनजातीहै।

गांवकेनौलापतालोगोंमेंरविंद्रउरांव(23),ज्योतिषबाखला(29),नेमहसबाखला(20),सुनिलबाखला(27),उर्वानुसबाखला(49),दीपककुजूर(22),विक्कीउरांव(30),प्रेमउरांव(29)शामिलहै।इनमेंंआठलोगोंकीउम्र30सालयाइससेनीचेहै।किसीकीशादीकीतैयारीचलरहीथीतोकिसीकीएक-दोसालपहलेशादीहुईहै।लापतायुवकोंकेपरिजनोंनेअनहाेनीकीआशंकाजतातेहुएसोमवारकाेजिलाप्रशासनकेमाध्यमसेहेमंतसोरेनसरकारसेमददकीगुहारलगाईहै।

गांवमेंएकमहिलासेमुलाकातहुईजोअपनेघरकेआगेबैठीथी।उनकेहाथमेंएंड्रॉयडमोबाइलथा।वेबार-बारमोबाइलकीओरदेखरहीथी।पूछनेपरउन्होंनेबतायाकिउनकानामदवलेनबाखलाहै।उनकाइकलौताबेटाहैजोपिछलेकुछमहीनेपहलेकामकेलिएउत्तराखंडगयाथा।उन्होंनेबतायाकिमेराबेटाज्योतिषबाखला29सालकाहै।कुछदिनोंपहलेवीडियोकॉलपरबातहुईथी।लेकिनजबसेत्रासदीकीखबरसुनीहै,मनबेचैनहै।जबतकउससेबातनहींहोगी,कलेजेकोठंडकनहींमिलेगी।बेटेकेलापताहोनेकीखबरकेबादसेहीमनबहुतघबरारहाहै।मेरातोएकमात्रसहाराबेटाहीहैै।

गांवकेही23सालकेरविंद्रउरांवकेबड़ेभाईशशिउरांवसेबातचीतमेंपताचलाकिछोटीबहनकीशादीकरनीहै।मैंछोटा-मोटाकामकरकेघरकाखर्चतोचलालेताहूंलेकिनअन्यखर्चऔरबहनकीशादीमेंहोनेवालेखर्चकोदेखरविंद्रमजदूरीकेलिएउत्तराखंडगयाथा।तीनदिनपहलेहादसेकीसूचनाटीवीपरमिलीतोमनबेचैनहोगया।काफीसोचनेसमझनेकेबादमैंनेइसबारेमेंमां-पिताजीकोबताया।वोटीवीदेखकररोनेलगे।अबतकरविंद्रकाकुछपतानहींचलपाया।हमउत्तराखंडमेंलगातारठेकेदारसेबातकररहेहैं।

उधर,रामगढ़मेंचोकादगांवकेनिवासीकुलदीपमहतोभीइसत्रासदीमेंलापताहोगएहैं।उसकीपत्नीहेमंतीदेवीकारो-रोकरबुराहालहै।इनकीदोबेटियांहैं।हेमंतीदेवीनेबतायाकिहादसेकेएकदिनपहलेमेरेभाईकीउनसेफोनपरबातहुईथी।जबमैंनेबातकरनेकेलिएफोनलियातोउन्होंनेयहकहतेहुएकॉलकाटदियाकिड्यूटीपरआगयाहूं।बादमेंबातकरूंगा।हेमंतीदेवीरो-रोकरयहीकहरहीहैकियहजिंदगीअबकैसेकटेगी।दोछोटी-छोटीबेटियांहैं,इनकीपरवरिशकैसेहोगी।

वहीं,चोकादगांवकेनिवासीबिरसाईमहतोकीशादी7वर्षपूर्वहुईथी।बिरसाईकेपरिवारमेंपत्नीऔरपिताहैं।मिथिलेशमहतोकेघरपरपत्नी,एकबेटीऔरमाता-पिताहैं।युवकाेंकेपरिजनाेंनेकहाकिघरकीहालतखराबहै।परिवारकेसदस्यमजदूरीकरभरणपोषणकरतेहैं।आर्थिकस्थितिसुधारनेकेलिएबेटेउत्तराखंडगएथे।परउनकेलापताहोजानेसेपरिवारपरआफतटूटपड़ीहै।