कृषि विधेयक किसानों के रक्षा कवच, विरोध करने वाले दे रहे बिचौलियों का साथ: मोदी

जांच

नयीदिल्ली,18सितंबर(भाषा)प्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीनेशुक्रवारकोदेशकेकिसानोंकोआश्वस्तकियाकिलोकसभासेपारितकृषिसुधारसंबंधीविधेयकउनकेलिएरक्षाकवचकाकामकरेंगेऔरनएप्रावधानलागूहोनेकेकारणवेअपनीफसलकोदेशकेकिसीभीबाजारमेंअपनीमनचाहीकीमतपरबेचसकेंगे।प्रधानमंत्रीनेविपक्षीपार्टियों,खासकरकांग्रेसपर,आरोपलगायाकिवहइनविधेयकोंकाविरोधकरकिसानोंकोभ्रमितकरनेकाप्रयासकररहीहैंऔरबिचौलियोंकेसाथकिसानोंकीकमाईकोबीचमेंलूटनेवालोंकासाथदेरहीहैं।उन्होंनेकिसानोंसेआग्रहकियाकिवेइसभ्रममेंनपड़ेंऔरसतर्करहें।मोदीनेयेबातेंआज‘ऐतिहासिक’कोसीरेलमहासेतुकोराष्ट्रकोसमर्पितकरनेऔरबिहारकेरेलयात्रियोंकीसुविधाओंकेलिए12रेलपरियोजनाओंकाशुभारंभकरनेकेबादअपनेसंबोधनमेंकही।वीडियोकांफ्रेंससेआयोजितइससमारोहमेंबिहारकेराज्यपालफागूचौहान,मुख्यमंत्रीनीतीशकुमार,उपमुख्यमंत्रीसुशीलकुमारमोदी,केंद्रीयमंत्रीपीयूषगोयल,रविशंकरप्रसाद,गिरिराजसिंहऔरनित्यानंदरायनेभीहिस्सालिया।मोदीनेकहा,‘‘कलविश्वकर्माजयंतीकेदिनलोकसभामेंऐतिहासिककृषिसुधारविधेयकपारितकिएगएहैं।किसानऔरग्राहककेबीचजोबिचौलिएहोतेहैं,जोकिसानोंकीकमाईकाबड़ाहिस्साखुदलेलेतेहैं,उनसेबचानेकेलिएयेविधेयकलाएजानेबहुतआवश्यकथे।येविधेयककिसानोंकेलिएरक्षाकवचबनकरआएहैं।’’उन्होंनेकहाकिजोलोगदशकोंतकसत्तामेंरहेहैंऔरदेशपरराजकियाहै,वेलोगकिसानोंकोइसविषयपरभ्रमितकरनेकीकोशिशकररहेहैंओरउनसेझूठबोलरहेहैं।उन्होंनेकहा,‘‘जिसएपीएमसीएक्टकोलेकरअबयेलोगराजनीतिकररहेहैं,एग्रीकल्चरमार्केटकेप्रावधानोंमेंबदलावकाविरोधकररहेहैं,उसीबदलावकीबातइनलोगोंनेअपनेघोषणापत्रमेंभीलिखीथी।लेकिनअबजबएनडीएसरकारनेयेबदलावकरदियाहै,तोयेलोगइसकाविरोधकरनेपरउतरआएहैं।दुष्प्रचारकियाजारहाहैकिसरकारकेद्वाराकिसानोंकोएमएसपी(न्यूनतमसमर्थनमूल्य)कालाभनहींदियाजाएगा।येभीमनगढ़ंतबातेंकहीजारहीहैंकिकिसानोंसेधान-गेहूंइत्यादिकीखरीदसरकारद्वारानहींकीजाएगी।येसरासरझूठहै,गलतहै,किसानोंकोधोखाहै।’’प्रधानमंत्रीनेकहाकिकेंद्रकीसरकारकिसानोंकोएमएसपीकेमाध्यमसेउचितमूल्यदिलानेकेलिएप्रतिबद्धहै।उन्होंनेकहाकिसरकारीखरीदभीपहलेकीतरहजारीरहेगी,कोईभीव्यक्तिअपनाउत्पाददुनियामेंकहींभीबेचसकताहै।जहांचाहेवहांबेचसकताहै।मोदीनेकहाकिकिसानोंकेलिएजितनाराजगशासनमेंपिछलेछहवर्षोंमेंकियागयाहै,उतनापहलेकभीनहींकियागया।उन्होंनेकहा,‘‘मैंआजदेशकेकिसानोंकोबड़ीनम्रतापूर्वकअपनीबातबतानाचाहताहूं।संदेशदेनाचाहताहूं।आपकिसीभीतरहकेभ्रममेंमतपड़िए।इनलोगोंसेदेशकेकिसानोंकोसतर्करहनाबहुतजरूरीहैऐसेलोगोंसेसावधानरहें,जिन्होंनेदशकोंतकदेशपरराजकियाऔरजोआजकिसानोंसेझूठबोलरहेहैं।वेलोगआजकिसानोंकीरक्षाकाढिंढोरापीटरहेहैं।उन्होंनेकहाकिइनविधेयकोंकाविरोधकरनेवालेकिसानोंकोअनेकबंधनोंमेंजकड़कररखनाचाहतेहैं।‘‘वेलोगबिचौलियोंकासाथदेरहेहैं...किसानोंकीकमाईकोबीचमेंलूटनेवालोंकासाथदेरहेहैं।’’प्रधानमंत्रीनेकहाकिकिसानोंकोअपनीउपजकहींपरभीकिसीकोभीबेचनेकीआजादीदेनाबहुतऐतिहासिककदमहै।उन्होंनेकहा,‘‘21वींसदीमेंभारतकाकिसानबंधनोंमेंनहींरहेगा।भारतकाकिसानखुलकरखेतीकरेगा।जहांमनहोगा,अपनीउपजबेचेगा।जहांज्यादापैसामिलेगा,वहांबेचेगा।किसीबिचौलिएकामोहताजनहींरहेगा।यहदेशकीजरूरतहैऔरसमयकीमांगभीहै।’’लोकसभानेबृहस्पतिवारकोकृषिउपजव्यापारऔरवाणिज्य(संवर्द्धनऔरसुविधा)विधेयक,कृषक(सशक्तीकरणएवंसंरक्षण)कीमतआश्वासनसमझौताऔरकृषिसेवापरकरारविधेयकपारितकरदियाथा।आवश्यकवस्तु(संशोधन)विधेयकपहलेहीपारितहोचुकाहै।