पढ़ने के लिए दो किमी चलते हैं 'नन्हें पांव'

जांच

मनोजत्रिपाठी,घुइसरनाथधाम,प्रतापगढ़:जिलेमेंएकतरफऐसेअनेकविद्यालयहैं,जहांपढ़नेकेलिएबच्चेउपलब्धनहींहोरहेहैं।वहींढाईहजारकीआबादीकाएकऐसाभीगांवहैजोप्राथमिकशिक्षाकोतरसरहाहै।यहांकेछोटे-छोटेबच्चेतीनकिलोमीटरतककीदूरीपैदलतयकरकेस्कूलजातेहैं।ऐसेमेंबड़ीसंख्यामेंबच्चेअशिक्षितभीरहजातेहैं।पाल्योंकीपढ़ाईकोलेकरउनकेअभिभावकचिंतितहैं।

यहहालहैसांगीपुरब्लाककापूरेमुरलीकमयनपुरगांवका।इसगांवकीकुलआबादीलगभग2500है।मगरयहांकेबच्चेतीनकिलोमीटरदूरीतयकरपढ़नेकोयातोडभियारजातेहैंयाफिरदोकिलोमीटरदूरपद्माकरपुरगांव।इसगांवमेंप्राइमरीस्कूलकीमांगलंबेसमयसेचलीआरहीहै।मगरयहकामअभीतकनहींहोपाया।इसवजहसेगरीबपरिवारोंकेबहुतसेबच्चेतोअशिक्षितहीरहजातेहैं।गांवकेनिवासीमाताप्रसाद,अधिवक्ताअवधेशतिवारी,संजीवमिश्र,महेशसरोजकहतेहैंकिछोटेछोटेबच्चोंकोदोसेतीनकिलोमीटरदूरभेजनाआसाननहींहोता।खासकरऐसेगरीबपरिवारोंकेलोगजोआनेजानेकाखर्चवहननहींकरपातेहैं।इसवजहसेगांवकेकईसारेबच्चेशिक्षासेवंचितरहजातेहैं।ग्रामप्रधानमनोजसोनीभीइससमस्याकोलेकरबेहदगंभीरहैं।वेकहतेहैंकिजल्दयहांपरप्राइमरीस्कूलबनवानेकेलिएविभागकोजमीनउपलब्धकरादेंगे।ताकिगांवकेबच्चोंकोगांवमेंहीशिक्षामिलसके।

ग्रामसभामेंकिसीप्राथमिकस्कूलकानहोनावाकई¨चताजनकहै।इससमस्याकोदूरकरनेकेलिएविभागकेस्तरपरप्रयासकियाजाएगा।जल्दहीइसगांवमेंस्कूलखुले,इसकाप्रयासचलरहाहै।

-सुशील¨सह,खंडशिक्षाधिकारी,सांगीपुर।