राष्ट्रीय किसान मंच ने कहा- उत्तर प्रदेश के बजट में किसानों के साथ धोखा हुआ, दावे पूरी तरह से खोखले

जांच

लखनऊ:किसानसंगठनराष्ट्रीयकिसानमंचनेकहाकिउत्तरप्रदेशके2022-2023केबजटमेंकिसानोंकेसाथ‘धोखा’हुआहै.किसानसंगठनकेअध्यक्षशेखरदीक्षितनेआरोपलगातेहुएकहा,‘‘उत्तरप्रदेशसरकारनेइसबजटमेंकिसानोंकेसाथधोखाकियाहै,औरकिसानोंकोगन्नाबकायाभुगतानकेदावेपूरीतरहसेखोखलेहैं.’’गन्नामूल्यभुगतानकोलेकरसरकारपरआंकड़ोंकामकड़जालबुननेकाआरोपलगातेहुएउन्होंनेकहाकि2022तककेगन्नामूल्यभुगतानकादावापूरीतरहसेखोखलाहै.उन्होंनेकहाकिआजभीकरीबतीनहजारकरोड़रुपयेसेअधिककागन्नामूल्यकाभुगतानबाकीहै.

उन्होंनेआरोपलगायाकिकिसानसम्माननिधिदेनेमेंभीकिसानोंकेसाथभेदभावकियाजारहाहै.उन्होंनेकहा,‘‘सरकारनेखुदभीमानाहैकिकिसानसम्माननिधिकालाभअधिकांशकिसानोंतकनहींपहुचाहै.सरकारकीबीजवितरणयोजनाभीकुप्रबंधनकाशिकारहै.करीब90प्रतिशतकिसानआजभीबीजबाजारसेखरीदनेकोमजबूरहैं.सरकारीबीजवितरणकागजोंपरहीहोतारहताहै.’’

बजटपरप्रतिक्रियाजतातेहुएलखनऊकेवरिष्ठअधिवक्ताआशीषकुमारत्रिपाठीनेकहाकिबजटमेंएकबारफिरसेसरकारकीलोकलुभावनयोजनाओंकीघोषणावआंकड़ोंकीबाजगीगरीसेस्पष्टहैकिसरकारनेएकओरजहांअपनेचुनावीवादोंकोपूराकरनेकाप्रयासकियाहै,वहींदूसरीतरफआगामीआमचुनाव2024कीजमीनभीतैयारकरनेकाप्रयासकियाहै.उन्होंनेकहाकियदिसरकारनेयोजनाऔरप्रयासकेमध्यसामंजस्यस्थापितकरलियातोयहबजटनिश्चितहीविकासोन्मुखीसाबितहोगा.त्रिपाठीनेकहाकिअधिवक्ताओंवअदालतकीसुरक्षाइत्यादिकाप्रावधानकियाजानासुखदहै.उन्होंनेकहाकिहालांकियहअपेक्षानूरूपनहींहै,फिरभीयह‘कुछनहींसेकुछअच्छा’जैसाअवश्यहै.उत्तरप्रदेशकीविधानसभामेंपेशकियेगयेवित्तीयवर्ष2022-23केबजटमेंसरकारनेपुलिसतंत्रकीबेहतरीकेसाथकिसानों,महिलाओं,युवाओं,चिकित्सा,शिक्षाऔरआस्थाकेकेंद्रोंकेविकासपरध्यानकेंद्रितकियाहै.

उत्तरप्रदेशकेमुख्यमंत्रीआदित्यनाथसरकारकेदूसरेकार्यकालका6,15,518.97करोड़रुपयेकापहलाबजटबृहस्पतिवारकोविधानसभामेंपेशकियागयाजिसमें39हजार181करोड़10लाखरुपयेकीनयीयोजनाएंशामिलकीगयीहैं.इसबजटमेंपुलिसतंत्रमेंबेहतरीकेसाथकिसानों,महिलाओं,युवाओं,चिकित्सा,शिक्षाऔरआस्थाकेकेंद्रोंकेविकासकेलिएसरकारनेखजानाखोलाहै.