शराब के धंधे से तौबा, बकरी पालन से खुली जीने की राह

जांच

बगहा।बगहादोप्रखंडकीबैरागीसोनबरसापंचायतकाछोपीटोलाकदमहवागांव।इसगांवमेंकभीघर-घरमेंशराबबनतीथी।दिनभरघरोंमेंअवैधशराबनिर्माणकेलिएभट्ठियांजलतीथीं।पुरुष,महिलावबच्चेसभीइसीधंधेमेंलगेरहतेथे।महिलाएंघरकेअंदरशराबबनातीथींऔरपुरुषबाहरबैठकरशराबबेचतेथे।उसवक्तभीअवैधशराबकेनिर्माणकोलेकरपुलिसअभियानचलातीथी।गांवमेंछापेमारीहोतीथी।कईलोगपकड़ेजातेथे।जेलजातेथेऔरफिरछूटकरआतेथेऔरफिरवहींधंधाआरंभ।एकतरहसेशराबकाधंधाइनकेरग-रगमेंसमायाहुआथा।इनकोलगताथाअबकोईदूसराकारोबारनहींकरसकेंगे।लेकिन,वक्तनेकरवटबदला।बिहारमेंपूर्णशराबबंदीलागूहुई।जबशराबबंदीकाकानूनलागूहुआतोमानोइनपरपहाड़टूटपड़ा।इनसबसेइतरपुलिसकीमुस्तैदी,पंचायतजनप्रतिनिधियोंकीजागरूकताकाअसरहैकिअभीयेलोगखुदमेंआएपरिवर्तनसेकाफीप्रसन्नहैं।अभीइज्जतकीरोटीखातेहैं।बच्चेभीस्कूलजातेहैं।150घरोंकीबस्तीमेंबकरीपालन

बेतियाकीएकसंस्थाकेसहयोगसेगांवकेलोगोंकोशराबकाकारोबारछोड़नेकाएकविकल्पमिला।संस्थाकीओरसेइनलोगोंकोजागरूककियागया।अबयहांशराबकेधंधेकीजगहबकरीपालनवसब्जीकीखेतीकरलोगजीवनसुधाररहेहैं।

गांवकेराजेशउरांवकहतेहैंकिकाशयेशराबबंदीदसवर्षपहलेहुईहोतीतोआजगांवकीतस्वीरऔरअच्छीहोती।जिल्लततथाघुटनकीजिदगीसेग्रामीणआजादहोते।नशेकीखुमारमेंअपनीजिदगीकेवेमहत्वपूर्णपलपरिवारकेसदस्योंकीखुशहालीकेलिएजीतेऔरसमाजकासर्वागीणविकासहोता।विकासकीगंगाकबकीगांवमेबहचुकीहोती।अभीसब्जीकीखेती,रोजगारऔरपशुपालनकेमाध्यमसेसामाजिकचेतनाकाउदयहुआहै।

स्थानीयमुखियागोरखउरांवकहतेहैनशाबंदीकानूनकेबादलोगअबशराबकेनशेमेंनहींदिखतेहैं।फलस्वरूपअबरोजगारकीयादआतीहै।ग्रामीणपरिवेशमेंबकरीपालनऔरवैज्ञानिकतरीकेसेखेतीकरतेहै।गांवकाहरपरिवारखुशहाल

ग्रामीणराजीवउरांवकहतेहैंकिजबतकइसगांवमेंशराबकाअवैधकारोबारहोताथा,वास्तवमेंशराबसेअच्छी-खासीआमदनीभीहोतीथी।लेकिन,किसीभीपरिवारमेंसुख-शांतिनहींथी।पुलिसआतीथीऔरपकड़करलेजातीथी।शराबकेअवैधकारोबारमेंजोभीकमाकररखेथे,उसीसेजमानतआदिकरातेथे।जबपरिवारकासदस्यजेलसेआताथातोघरमेंएक-एकदानेकोमोहताजरहतेथे।लेकिन,अभीमेहनत-मजदूरीसेसभीखुशहालहै।

ममतादेवीकहतींहैंकिअच्छाहुआकिशराबपरपाबंदीलगगई।गांवमेंरहनामुश्किलथा।शामढ़लतेहीइसगांवमेंशराबपीनेकेलिएलोगोंकीभीड़जुटजातीथी।देरराततकहल्लावगाली-गलौजकेमारेजीनामुहालहोगयाथा।शराबबंदहोनेकेबादसभीलोगोंमेंसामाजिकचेतनाआईहै।जोबच्चेशराबकेधंधेमेंथे,अबवेअभीस्कूलजातेहैं।जोमहिलाएंदिनभरशराबकीभट्ठियांफूंकतीथीं,वहअभीबकरीपालनकररहीहैं।वास्तवमेंछोपीटोलाकदमहवागांवमेंगजबकीसामाजिकचेतनाआईहै।यहांकेलोगोंनेशराबकेधंधेकोतौबाकरदियाहै।अबखुदकीरोजीरोजगारसेकाफीखुशहालहै।

-उमाशंकरमांझी,थानाध्यक्ष,चिउटाहां