सिघु बार्डर से यादगार के रूप में बैरिकेड उठा लाए किसान

जांच

जागरणसंवाददाता,श्रीमुक्तसरसाहिब

कृषिकानूनोंकोरदकरनेकीमांगकोलेकरसंयुक्तमोर्चाकीतरफसेनईदिल्लीकेबार्डरोंपरलगाएगएमोर्चेकोकिसानकानूनवापसीकेबादभीकिसीनकिसीतरहसेयादरखनाचाहतेहैं।आंदोलनकीसमाप्तिपरलौटतेसमयजिलेकेगांवकोटलीदेवनकेकिसानवहांसेएकबैरिकेडभीउठाकरलेआएहैं।बैरिकेडकोगांवकेगुरुद्वारासाहिबमेंरखागयाहैजिसेवेइसेएकयादगारकारूपदेंगे।किसानोंकाकहनाहैकिवेबैरिकेडकोएकम्यूजियमकेरूपमेंसंभालकररखेंगे।किसानोंकीओरसेलाएगएइसबैरिकेडकीवीडियोइंटरनेटमीडियापरखूबवायरलहोरहीहै।

गांवकेयुवाकिसानोंनेकहाकिकृषिकानूनोंकीवापसीकीमांगकोलेकरदिल्लीकेबार्डरोंपरचलेआंदोलनमेंउनकेगांवकेभीबड़ीसंख्यामेंकिसानोंनेहिस्सालियाथा।जबयहआंदोलनशुरूहुआतोथावहांपरबड़े-बड़ेबैरिकेडलगाकारउनकारास्तारोकनेकीकोशिशकीगईथीलेकिनबैरिकेडपंजाबकेकिसानोंकारास्तानहींरोकसके।बीतेदिनोंकेंद्रसरकारकीतरफसेकृषिकानूनवापसलेलिएगए।जबमोर्चासमाप्तकियागयातोसिघुबार्डरसेलौटतेसमययहविचारआयाकिक्योंनयहांसेकोईवस्तुयादगारकेतौरपरगांवलेकरजाईजाए।इसीविचारकेतहतहीजिनबैरिकेडोंसेउनकारास्तारोकनेकीकोशिशकीगईतोउसेहीएकयादगारकेरूपमेंलेकरजानेफैसलाकियागया।इसउपरांतएकबैरिकेडकोवहांसेट्रालीमेंरखकरयहांलायागयाहै।

किसानजगदीशसिंहसहितअन्यग्रामीणोंनेकहाकिउन्हेंयहप्रेरणासिखइतिहासकीएकघटनासेमिलीहै।1783मेंदिल्लीफतेहकेदौरानसिंहदिल्लीसेएकसिलयादगारकेरूपमेंलेकरआएथेजिसेश्रीहरिमंदरसाहिबकेरामगढि़याबुंगामेंरखाहुआहै।इसीघटनासेयहप्रेरणालेतेहुएवहांसेबैरिकेडलायागयाहैजिसेवेएकम्यूजियमकेरूपमेंसंभालकररखेंगे।युवाओंनेकहाकिइसबैरिकेडपरकिसानआंदोलनकेदौरानहुईघटनाओंकीतिथियोंसमेततस्वीरेलगाकररखेंगे।ताकिआनेवालीपीढि़योंकोयहबतायाजासकेकिवर्ष2020मेंकृषिकानूनोंकीवापसीकीमांगकोलेकरकिसानोंकाएकआंदोलनचलाथा।नईपीढि़योंकोदिखानेकेलिएहीयहबैरिकेडलायागयाहै।यहबैरिकेडदेखकरवेअपनेबुजुर्गोंपरगर्वकरसकेंगे।