उत्पाद नहीं बिकने से गन्ना की खेती छोड़ रहे किसान

जांच

बक्सर:अनुमंडलइलाकेकीमिट्टीगन्नेकीखेतीकेलिएकाफीउपजाऊऔरबेहतरमानीजातीहै।जबबिहटामेंचीनीमिलहुआकरताथा,तबयहक्षेत्रगन्नेकीफसलसेलहलहाताथा।अबमांगऔरसंसाधनोंकीकमीकेकारणगन्नेकीखेतीसिमटगईहैं।हाड़तोड़मेहनततथालागतकेबादभीकिसानोंकोकोईखासफायदानहींहोरहाहैं।नतीजतन,एकड़वबीघाकीखेतीअबकठ्ठे-डंडेमेंसिमटगईहै।

किसानोंकोमलालहैकिसरकारजहांगन्नेकीखेतीकोबढ़ावादेनेकेलिएतत्परहैं,वहींक्षेत्रीयकृषकोंकोइसकासमुचितलाभनहींमिलपाताहैं।किसानखुशीयादव,राजकपिलमहतो,नमोनारायणपांडेय,दीपनारायणतिवारी,कपिलमुनीपांडेय,एवंभरतचौबेकाकहनाहैकिपारंपरिकसंसाधनोंकीबदौलतदिनभरमेंदो-ढाईकुंतलईखकारसनिकालपातेहैं।जिससेमहज45किलोग्रामगुड़तैयारहोताहै।इसकेचलतेमजदूरीभीनिकलनामुश्किलहोजाताहैं।मकरसंक्रांतिपरगुड़कीमांगरहतीहैऔरपरिवारकीजरूरतेंभीपूरीकरनीहोतीहै,इसलिएकिसानकुछक्षेत्रोंमेंगन्नेकीपारंपारिकखेतीअबभीकररहेहैं।कहतेहैंकिसान

ईखकेचर्चितकृषकश्रीकृष्णसिंह,गोपालजीतिवारी,मनभरनयादव,एवंवीरेन्द्रमहतोवसुरजसाहनेबतायाकिसरकारद्वाराकिसानोंकोजागरूककरनेकेलिएसमय-समयपरकार्यशालाआयोजितकरखाद-बीजएवंसंसाधनअनुदानितमूल्योंपरउपलब्धकरानेंकीबातकहीजातीहै।लेकिन,सारीघोषणाहवा-हवाईसाबितहोगईहै।नतीजतन,किसानोंकोईंखकीखेतीकाफीमहंगासाबितहोनेलगाहैं।जबकि,किसानोंकामाननाहैकिअगरसरकारद्वारादीजानेवालीव्यवस्थाकिसानोंकोमिलेतोईंखकीखेतीसेकिसानोंकीआयमेंदुगुनीवृद्धिभीहोसकतीहै।

नहींहुआचीनीमिलकासपनासाकार

कुछवर्षपहलेइलाकेमेंचर्चाहुईकिअनुमंडलइलाकेकेनावानगरस्थितहरियाणाफॉर्मकेविशालभू-भागपरसुगरकारपोरेशनद्वाराचीनीमिलजल्दखुलेगा।इसकोलेकरइलाकाईकिसानोंकोअहसासहुआकिईखकीखेतीकृषकोंकेलिएवरदानसाबितहोगी।लेकिन,धीरे-धीरेप्रक्रियाशांतहोगई।जानकारोंकेअनुसारराष्ट्रीयकिसाननेतारणजीतसिंहराणाकेप्रयाससेयहांसुगरमिलकीस्वीकृतिभीमिलगईथी।पूरेप्रदेशकेकुलसातसुगरमिलोंमेंइससुगरमिलकामहत्वपूर्णस्थानथा।लेकिन,सरकारीहुक्मरानोंकीलापरवाहीएवंइथेनॉलनिर्माणकीअड़चनोंकोलेकरसुगरमिलकीप्रक्रियापरग्रहणलगगया।

जिलेमेंगन्नाविकासविभागकाकोईकार्यालयनहींहै।गन्नाविकासविभागआराकार्यालयमेंउपनिदेशकबैठतेहैं।इसजिलेकासंचालनभीवहींसेहोताहै।जागरूककिसानवहांसेजुड़करसमुचितफायदाउठासकतेहैं।गन्नाकेलिएअनुदानकृषिविभागकेदायरेसेबाहरहै।

-कृष्णचंद्रचक्रवर्ती,जिलाकृषिपदाधिकारी,बक्सर।