विज्ञापन से ..शिक्षा के बिना देश का विकास संभव नहीं : चौबे

जांच

निर्धनवजरूरतमंदबच्चोंकोदियाजानाचाहिएनिश्शुल्कशिक्षा

गैसपेपरसेनकरेंपरीक्षाकीतैयारी,सफलताकेलिएबेसिकज्ञानजरूरीसंवादसूत्र,मेदिनीनगर(पलामू):शिक्षाकेबिनादेशकाविकाससंभवनहींहै।आजकेबच्चेकलकेभारतकेभविष्यहैं।ऐसेमेंनिर्धनवजरूरतमंदबच्चोंकोनिशुल्कशिक्षादियाजानाअत्यंतजरूरीहै।उक्तबातेंपलामूसाईंससेंटरकेनिदेशकसहशिक्षाविद्प्रो.यूएसचौबेनेकही।वेगुरूवारकोसंस्थानमेंनिर्धनवजरूरतमंद11वींव12वींकेविद्यार्थियोंकेनिशुल्ककोचिगकीशुरूआतकेक्रममेंबोलरहेथे।कहाकिगेसपेपरसेपरीक्षाकीतैयारीकतईनहींकीजासकती।परीक्षामेंबेहतरढंगसेउत्तीर्णहोनेकेलिएबेसिकज्ञानकाहोनाआवश्यकहै।सवालकोट्रिकसेजरूरहलकियाजासकताहैपरसफलताशार्टकटज्ञानसेनहींमिलती।इसकेलिएचैप्टरकेकांसेप्टक्लियरहोनेकेबादहीकामयाबीमिलेगी।प्रो.चौबेनेकहाकिजिनबच्चोंमेंउड़नेकाहौसलाहो,मगरबगैरमार्गदर्शनकेआगेनहींबढ़पारहेहैं,वैसेविद्यार्थियोंकोमागदर्शनदेनेकेलिएवेतैयारहैं।कहाकि2वर्षोंकेकोरोनालाकडाउनमें11वीं-12वींक्लासकेविद्यार्थीबेसिकशिक्षाग्रहणनहींकरपाएहैं।ऐसेकोईभीविद्यार्थीकोर्सपूराकरनाचाहतेहोंवेबेहिचकउनसेमिलें।निशुल्ककोर्सकंप्लीटकराएंगे।निर्धनवजरूरतमंदविद्यार्थियोंकोपढ़ानेकीप्रेरणाउन्हेंपटनामेंप्रो.केसीसिन्हासेमिलीथी।वेउन्हेंकमराशिमेंनहींपढ़ाएहोतेतोवेआजप्रोफेसरनहींबनपाते।