विरान पड़े गांव को आबाद करने की कवायद

जांच

गोविंदभंडारी,अस्कोट:करीबढाईवर्षपूर्वआपदासेपूरीतरहसेवीरानहोचुकेबस्तड़ीगांवकेफिरसेआबादहोनेकीउम्मीदजगीहै।एकस्वयंसेवीसंस्थानेगांवकोपर्यटकस्थलकेरूपमेंविकसितकरनेकीपहलकीहै।इसकेतहतसंस्थाद्वाराबस्तड़ीकेबंजरहोचुकेखेतोंमेंपरंपरागतकृषिउत्पादोंकाउत्पादनकियाजाएगा।अगलेमाहदेशवविदेशोंकेकृषिविशेषज्ञोंकीटीमगांवपहुंचकरयोजनापरकार्यकरनाशुरूकरदेगी।

30जूनव1जुलाई2016कोसीमांतजिलेमेंभीषणआपदाआईथी।भूस्खलनकेचलतेडीडीहाटतहसीलक्षेत्रकाबस्तड़ीगांवपूरीतरहसेतबाहहोगयाथा।इसआपदामें21ग्रामीणोंकीजानचलीगईथी।दर्जनभरमकानजमींदोजहोगएथे।खेत-खलिहानरोखड़मेंतब्दीलहोगए।जिंदाबचेग्रामीणोंनेगांवछोड़करसिंगालीकस्बेमेंशरणलेली,तबसेपूरागांववीरानपड़ाहुआहै।इसबीचग्रीनपीपुलनामकीस्वंयसेवीसंस्थानेगांवकोपुन:आबादकरनेकीयोजनाबनाईहै।संस्थाकेप्रबंधकरूपेशरामकेमुताबिकबस्तड़ीगांवकोअबआजादगांवकेनामसेविकसितकियाजाएगा।इसकेतहतगांवमेंपुन:कृषिकाकार्यशुरूकियाजाएगा।इसमेंपरंपरागतखेतीकोतरजीहदीजाएगी।इसकेलिएभारतकेविभिन्नक्षेत्रोंकेअलावाआस्ट्रेलिया,कनाडावजर्मनीआदिदेशोंकेकृषिविशेषज्ञस्थानीयउत्पादोंकेसंतोषजनकउत्पादनहेतुआधुनिकतकनीककाप्रयोगकरेंगे।इनस्थानीयउत्पादोंकेमाध्यमसेपर्यटकोंकोआकर्षितकियाजाएगा।पर्यटकोंकेगांवमेंहीठहरनेकीव्यवस्थाकीजाएगी।इससेगांवधीरे-धीरेएकपर्यटनस्थलकेरूपमेंविकसितहोगा।इसकार्यकोस्थानीयलोगोंवग्रामीणोंकेसाथमिलकरकियाजाएगा।उन्हेंरोजगारकेअवसरउपलब्धकराएजाएंगे।ग्रीनपीपुलसंस्थाकेकुमाऊंक्षेत्रमेंकार्यसंचालककिरनचंदनेबतायाकिअगलेमाहसेबस्तड़ीकोआजादगांवकेरूपमेंविकसितकरनेकीयोजनापरकार्यशुरूहोजाएगा।